गंगा घाटों पर सीसीटीवी व ड्रोन से निगरानी
11 तक होंगी दुर्गा प्रतिमाएं विसर्जित

जगदीश/फिरोज/जाकिर/रमेश/जयदीप

कोलकाता/हावड़ा/हुगली। चार दिनों के उल्लास के बाद विजय दशमी के दिन महानगर कोलकाता सहित हावड़ा, हुगली ही नहीं राज्य भर में तमाम दुर्गा प्रतिमाों का विभिन्न गंगा घाटों में विसर्जन हुआ। जब महामाया दुर्गा परिवार की प्रतिमाएं पूजा मंडपों से गंगा घाटों के लिये रवाना हुयी तो देवी भक्तों के आंख भर आये। महिला हो या फिर वयो वृद्ध इनके आंखों की कोर से छलके आंसू इस बात के गवाह रहे कि इनका दिल भी जार जार रो रहा है। लेकिन परम्परा के आगे विवश होकर उन्होंने भरी आंखों से की दुर्गतनाशिनी को विदा किया और सबके लिये मंगल कामना की। इस खबर के लिखे जाने तक बाबूघाट सहित राज्य भर में गंगा घाटों व नदियों में दुर्गा प्रतिमाओं का विसर्जन भारी सुरक्षा के बीच जारी था। बता दे कि विजयादशमी यानी मंगलवार से शुरू हुआ प्रतिमा विसर्जन आगामी 11 अक्टूबर तक जारी रहेगा। इस दौरान विसर्जन को चिन्हित घाटों पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं, ताकि प्रतिमा विसर्जन के दौरान किसी प्रकार की अनहोनी या घटनाएं पेश न आए। कदमतल्ला व बाबूघाट पर निगम कर्मियों के साथ ही भारी संख्या में सुरक्षाकर्मियों की तैनाती की गई है, क्योंकि इन घाटों पर भारी संख्या में प्रतिमा विसर्जन को भीड़ उमड़ रही है। ऐसे में तमाम सावधानियों के बीच विसर्जन को लेकर नियम कायदे निर्धारित किए गए हैं। जिसके अनुपालन की अनिवार्यता को सुनिश्चित करने को निगमकर्मी घाटों पर प्रतिमा विसर्जन को आने वालों से चर्चा के साथ ही उन्हें नियमानुसार अपनी पारी के इंतजार को कतारबद्ध होने को कह रहे हैं। घाट पर तैनात एक सुरक्षाकर्मी ने बताया कि विसर्जन के दौरान घाटों पर अराजक स्थिति उत्पन्न न हो इसके लिए विशेष रूप से सुरक्षा घेरे को तैयार किया गया है। इसके अलावा बाबूघाट इलाके में वॉच टॉवर स्थापित किए गए हैं व ईडन गार्डन से बाबूघाट को आने वाले संलग्न मार्गो पर यातायात प्रतिबंधित है। केवल इस मार्ग का उपयोग प्रतिमा विसर्जन को आने वाले वाहन ही कर सकते हैं। वहीं अन्य वाहन परिवर्तित मार्ग से गुजर रहे हैं। घाटों पर बिजली, सीवरेज और स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों के अलावा पोर्ट ट्रस्ट के कर्मचारी भी मौजूद हैं। साथ ही विसर्जन के उपरांत घाटों की सफाई को निगम कर्मियों को लगाया गया है। मेयर परिषद सदस्य देवाशीष कुमार ने कहा कि हर वर्ष की तरह ही इस वर्ष भी कोलकाता नगर निगम के आपदा प्रबंधन विभाग के कर्मियों के अलावा अन्य विभाग के कर्मियों को निगम क्षेत्र अंतर्गत विसर्जन को चिन्हित 15 घाटों पर तैनात किया गया है। इसके अलावा घाट पर तीन क्रेन रखे गए हैं, ताकि सहज तरीके से प्रतिमाओं का विसर्जन किया जा सके।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •