कभी ‘अटल’ अटलजी का पैर तोड़ा तो कभी फ्लैट रद्द करवा दिया

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी पर विशेष स्मरण जगदीश यादव  कोलकाता। ठन गई! मौत से ठन गई! जूझने का मेरा इरादा न था, मोड़ पर मिलेंगे इसका वादा न था, रास्ता रोक कर वह खड़ी हो गई। जी हां, उक्त कविता की पंक्...

लोकतंत्र के साथ बेइंसाफी से आहत ‘आत्माओं’ की व्यथा

  जगदीश यादव लेखक अभय बंग पत्रिका व अभयटीवी डाट कम के सम्पादक है। कोलकाता। दुनियां के सबसे मजबूत लोकतांत्रिक देश के रुप में इस देश की अपनी एक पहंचान है। लोकतंत्र में वोट को ही जनता की ताकत माना गया...

इस वर्ष भी विपक्ष पर भारी पड़ा मोदी का भगवा खेमा

वंशवाद के काऱण राजनेताओं की डूबी लुटिया अलविदा 2017 जगदीश यादव कोलकाता।यह साल मात्र कुछ दिनों का मेहमान है। इस वर्ष अगर देश ने कईयों को खोया है तो तमाम उपलब्धियां भी हासिल की है। लेकिन अगर हम बात देश के राजन...

देश के कलेजे के और कितने टुकड़े ?

जगदीश यादव लेखक अभय बंग पत्रिका व www.atvabhay.com के संपादक व निदेशक हैं। देश आजाद हुआ और फिर उसके बाद से भाषा, संस्कृति और प्रशासनिक जरुरतों व राजनीतिक मकसदों के तहत नये राज्यों का जन्म शुरु हुआ। ऐसे में...

फिर दीदी की ‘हसरतों की नाव’ दिल्ली की ओर

जगदीश यादव  कोलकाता। देश में राष्ट्रपति चुनाव की तारीख के करीब आते ही देश की राजनीति में  नये राजनीतिक समीकरण के रंग को मोदी सरकार के विरोधी गाढ़ा करने के लिये हर सम्बावित कोशिश में जुट गये हैं। वहीं भाजपा द्व...

कहीं पर निगाहें कही पर निशाना

जगदीश यादव देश भर में नोटबंदी का प्रभाव साफ देखा जा रहा है। देश के तमाम कोने से नोटबंदी पर तमाम तरह की बाते सुनने को मिल रही है। लेकिन जो एक बात समान्य है कि लोग यह जरुर कह रहें है कि देश के प्रधानमंत्री नरे...

एक गोली मादरे वतन के लिये

जगदीश यादव लेखक- अभय बंग पत्रिका व www.abhaytv.com के सम्पादक और पश्चिम बंगाल भाजपा ओबीसी मोर्चा के मीडिया प्रभारी हैं। मोबाइल -9804410919 उड़ी में सेना के कैंप पर आतंकी हमले में भारत के 18जवान शहीद हो गए।...

अकाल मौत की ओर कदम बढ़ाती पाक मीडिया

जगदीश यादव लेखक- अभय बंग पत्रिका व www.abhaytv.com के सम्पादक और पश्चिम बंगाल भाजपा ओबीसी मोर्चा के मीडिया प्रभारी हैं। मोबाइल -9804410919 साफ कहे तो मीडिया के साथ डांट-डपट कोई नई बात नहीं है। लेकिन यह भी सच...

ऊर्जा सुधारों से मिली  विश्व में पहचान 

अनुपमा ऐरी  "अनुपमा ऐरी वरिष्ठ स्वतंत्र पत्रकार हैं और ऊर्जा क्षेत्र के लेखों में नियमित योगदान देती हैं" किसी भी अर्थव्यवस्था की रीढ़ माने जाने वाले भारत के बिजली क्षेत्र ने कभी ऐसे सुधा...

3.6 मिनट में एक भारतीय चढ़ता है सड़क हादसे की बलि

 अवनीश सिंह भदौरिया  देश में बढ़ते सडक़ हादसों से होने वाली मौतें गंभीर चिंता का विषय बनती जा रही हैं। एक ताजा सरकारी आंकड़ें के मुताबिक प्रत्येक 3.6 मिनट में सडक़ हादसों में एक भारतीय की मौत हो रही है। सडक़ हादस...