ममता बनर्जी का पलड़ा भारी

कोलकाता।

ADV.

ADV.

राज्य में राज्यसभा की 5 सीटों के लिए चुनाव होंगे। ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली तृणमूल कांग्रेस पार्टी 4 सीटें आसानी से जीत सकती है क्योंकि 294 सदस्यीय हाऊस में उसके 212 विधायक हैं। हरेक विजेता को 59 पहले पहल वाली वोटों की जरूरत होती है। कांग्रेस के पास 42 विधायक हैं तथा उसको 17 अन्य विधायकों का समर्थन चाहिए। यह समर्थन उसको मार्क्सवादी पार्टी से मिल सकता है, जिसके 26 विधायक हैं। इसके अलावा 11 अन्य आजाद विधायक भी हैं, जिनसे कांग्रेस सहायता ले सकती है।कांग्रेस ने यह सीट सीता राम येचुरी को देने की पेशकश की थी पर पार्टी नहीं मानी। अब मसला यह है कि क्या कांग्रेस मार्कसवादी पार्टी से राज्य सभा की सीट जीतने के लिए समर्थन लेगी या ममता बनर्जी के साथ कोई समझौता करेगी। कांग्रेस तथा ममता को इकट्ठा कौन कर सकता है, के लिए किसी की तलाश जारी है।मुद्दा यह है कि कांग्रेस और मार्क्सवादी पार्टी के संबंध कुछ मुद्दों को लेकर कुछ समय से ठीक नहीं है और ऐसा भी नहीं है कि संबंध में कोई गहरी दरार पड़ गई है.आगामी चुनावो को देखते हुए कांग्रेस ममता से भी हाथ मिलाकर रखना चाहती है। ऐसे में राज्यसभा सीट जीतने के कांग्रेस किसका समर्थन लेगी ये एक बड़ा सवाल है। ममता बनर्जी के साथ जाने के पहले ममता की शर्ते और समझौते पर कांग्रेस की नज़र है, फ़िलहाल पशोपेश जारी है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •