कोलकाता। भादो के कृष्णपक्ष की अष्टमी की रात महानगर कोलकाता के तमाम घरों और मंदिरों में भजन-कीर्तन और सोहर गीतों से गुलजार हो उठी। जबकि कोरोना काल के इस दौर में मंदिर नहीं जा सके लोगों को बाल गोपाल के दर्शन होंते रहें। दरअसल महामारी के इस दौर में लोगों ने अपने ही बच्चों को बाल गोपाल का श्रृंगार कर अपने ही घर में बाल गोपाल के दर्शन किये।महानगर कोलकाता में बाल गोपाल के भक्तों ने श्रद्धा और प्रेम के साथ नटवरलाल भगवान श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव मनाया। मंगलवार की रात 12 बजते ही घरों से लेकर मंदिरों तक भगवान श्रीकृष्ण के जयकारे लगने लगे। कृष्ण की स्तुति में पूरा शहर झूम रहा था। जय कन्हैया लाल की मदन गोपाल की.. के स्वर गूंजते रहे। लेकिन कोरोना काल में मंदिरों के कपाट बंद होने से इस बार आमजन मंदिर में उत्सव नहीं मना सके। मंदिरों में पुजारियों और प्रबंधन समिति के सदस्यों ने शारीरिक दूरी का पालन करते हुए भगवान श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव मनाया। इधर वैष्णव संप्रदाय से जुड़े श्रद्धालु व साधु-संत भगवान श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव आज सर्वार्थ सिद्धि योग व रवि योग में मनाया।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •