कभी टिकट नही मिलने पर पार्टी के झंडे को किया था आग के हवाले

कोलकाता। इंटाली थाना क्षेत्र के बेलियाघाटा रोड से हाल ही में एक किलो 100 ग्राम चरस के साथ गिरफ्तार टेंगरा के सबसे बड़े ड्रग्स सप्लायर जयदेव दास (31) की गिरफ्तारी ने प्रदेश भगवा खेमा के सामने प्रश्न चिन्ह खड़ा कर दिया है। पार्टी के कर्मी समर्थकों के बीच ही उक्त गिरफ्तारी को लेकर नकरात्मक संदेश गया है और पार्टी के कर्मी समर्थक इस घटना से आहत हैं। पार्टी के कथित मजदूर संगठन भारतीय जनता मजदूर ट्रेड यूनियन में जयदेव दास की व्यापक तौर पर चलती थी। उक्त संगठन के प्रमुख कहे जाने वाले बाबन घोष भी लाखों की धोखाधड़ी में गिरफ्तार हो चुके है और मामले में भाजपा नेता मुकुल राय का नाम भी उछला था। पार्टी सूत्रों ने गोपनियता की शर्त पर बताया कि जयदेव को जब 2015 में कलकत्ता नगरपालिका के चुनाव के समय टिकट नही मिला था तो जयदेव ने अपने लोगों के साथ भाजपा का झंडा जलाया था। प्रदेश भाजपा कार्यालय के सामने पार्टी विरोधी स्लोगन ही नही दिया था बरन पार्टी के झंडे के साथ कुछ ऐसा किया था जिसे लिखा भी नही जा सकता है।तब पार्टी से क्षुब्ध जयदेव तृणमूल में चला गया था और फिर भगवा खेमा के अवसरवादी कुछ नेताओं का हाथ पकड़ कर वह फिर वापस भगवा खेमा में आ गया। उसने 2019 में भारतीय जनता मजदूर ट्रेड यूनियन में प्रवेश किया। पार्टी सूत्रों की माने तो जयदेव सरीखे तमाम ऐसे लोग है जो पार्टी की आड़ में अपनी रोटी सेंक रहे हैं और जिनके कारण पार्टी के पुराने कर्मी, समर्थकों व शुभ चिंतकों की अवहेलना की जा रही है। बहरहाल कई दिनों पहले राज्य में उपचुनाव की तीन सीटों पर तृणमूल से मात खाने के बाद भगवा खेमा में थोड़ा निराशा है और तमाम सवाल उछाले जा रहे है ऐसे में ड्रग्स के मामले में गिरफ्तार जयदेव की गिरफ्तारी पर पार्टी के बीच असंतोष के स्वर उभर रहे है और कहा जा रहा है कि अगर ऐसा ही चलता रहा तो यह पार्टी का लिये काफी घातक साबित होगा।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •