लक्ष्मी शर्मा
दक्षिण दिनाजपुर। सीमा पर चट्टान की तरह तैनात रहने वाली सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) अपने सामाजिक सरोकार को भी अंजाम देने से नही हिचकिचती है। दक्षिण दिनाजपुर जिले के भारत-बांग्लादेश सीमांत इलाके में तैनात बीएसएफ की 28वीं बटालियन लगातार 15 दिनों से विभिन्न प्रकार के समाजसेवा मूलक कार्यक्रम आयोजित कर रही है।1 दिसंबर को बीएसएफ का स्थापना दिवस है। इसी उपलक्ष में भारत बांग्लादेश सीमांत इलाके के रसूलपुर स्मजिया बिओपी पर तैनात बीएसएफ की 28वीं बटालियन पिछले 15 तारीख से नित नए समाजसेवा मूलक कार्यक्रमों का आयोजन कर रही है बीएसएफ ने यहां ग्रामीणों के साथ वालीबाल, मिनी मैराथन दौड़ प्रतियोगिता आयोजित की। वही महिलाओं के लिये विशेष कार्यक्रम चलाकर बीएसएफ के डॉक्टरों ने उनके स्वास्थ्य से लेकर कई विषय पर जागरूकता फैलाई। युवा लड़के लड़कियों के लिए कैरियर कैंपेन सांस्कृतिक व जागरुकता अभियान, स्कूलों के शिक्षकों के साथ बैठक, बच्चों की शिक्षा के अलावा एक मेडिकल कैंप का आयोजन किया गया व तकरीबन 500 बच्चों व महिलाओं में पाठ्य व अन्य जरुरत की सामग्री वितरण की गई। डीआईजी तेजेन्द्र पाल सिंह सिद्धु ने कहा कि हम सीमांत इलाकों की रक्षा करने के साथ हम कोशिश करते हैं की सीमांत इलाकों के ग्रामीण लोग व समाज विकसित व जागरुक हो। युवक-युवतियां स्वंय रोजगार करें व यहां के बच्चे पढ़े स्कूल जाए । हमसे जो भी होता है हम करते हैं 1 दिसंबर स्थापना दिवस के अवसर पर हम यह कार्यक्रम लगातार 15 दिनों से कर रहे हैं। इस तरह के कार्यक्रम बीएसएफ जितना ज्यादा हो सके करती है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •