गंगाघाटों पर उमड़ी जनआस्था की लहर
मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पहुंची गंगा घाट
गंगा तटों पर सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ता इंतजाम
गीत व सोहरों से गूंजते रहे गंगा मईया के तट

अधुनिकता की रौशनी में सराबोर रहने वाले गोवा में छठ पूजन का दृश्य। फोटो- आकाश पाण्डेय

जगदीश यादव
कोलकाता। लोक आस्था के महापर्व छठपूजा पर आज महानगर कोलकाता सहित हावड़ा, हुगली, नदिया की बात छोड़ दे तो उत्तर दिनाजपुर व दक्षिण दिनाजपुर जैसे ग्राम अंचलों में छठ पूजा का का भक्तिमय नजारा दिखा। कोलकाता का बाबूघाट, प्रिसेपघाट, दहीघाट हो या फिर सूर्यनामघाट गंगाघाटों व तालाबों के किनारे आज भक्ति की बयार बहती रही और लोग छठ मईया के प्रति नत मस्तक रहें।  लोक आस्था के महा पर्व छठ पूजा के पावन अवसर पर राज्य सहित महानगर कोलकाता आज छठमय दिखा। जहां देखों वहां जन आस्था इंटरनेट के इस दौर में सिर चढ़कर बोलती रही। महानगर को तमाम गंगा घाट छठ व्रतियों से अटे दिखें तो हर ओर छठ मईया की शान में गीत और सोहर सभी को मंत्र मुग्ध करते रहें। महानगर कोलकाता के बाबूघाट, प्रिंसेपघाट, दहीघाट, सूर्यनामघाट यानी बिचालीघाट, बीएनआर घाट, बजबजघाट, शिवगंगा तालाब के तट पर पैर रखने की जगह नहीं थी।इस दिन दोपहर के बाद जैसे जैसे समय का पहिया प्रकृति के अनुशासन के तहत खिसकता रहा गंगाघाटों पर जन आस्था की भीड़ बढ़ती रही। छट व्रतियों ने इस दिनपर्व के पावन अवसर पर परम्परा व नियम के तहत भगवान अस्ताचल सूर्य को पर्व का पहला अर्घ्य प्रदान किया और फिर उनकी स्तुति करते दिखें। वहीं  हर वर्ष कीतरह इस वर्ष भी राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने छठ महापर्व के पवित्र अवसर पर आज  महानगर के पोर्ट अंचल स्थित  दहीघाट में जाकर छठव्रतियों को शुभकामनायें दी। ममता बनर्जी ने छठव्रतियों को सम्बोधित करते हुये कहा कि हर साल की तरह इस साल भी वह यहां आयी है। मुख्यमं6ी ममता बनर्जी ने यहां छठ व्रतियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि वह लोग तीन दिन तक कठीन व्रत करते हैं तो उनका भी फर्ज बनता है कि वह एक दिन की छुट्टी दे। सीएम ममता बनर्जी ने कहा कि इस राज्य में सबी लोग मिल जुल कर रहे और किसी से डरने की जरुरत नही है। जबतक वह है यहां कोई भेद भाव नहीं होगा। यह बंगाल है और इस राज्य में सभी का स्थान व महत्व है। छठ माता सबके जीवन में खुशियां लाये वह माता से यही कामना करती है। ममता बनर्जी ने कहा कि  सूर्य उपासना का पर्व छठ आज केवल बिहार या झारखंड का पर्व नहीं बल्कि पूरे देश का पर्व बन चुका है।  हम हमेशा छठ पूजा की छुट्ठी देते रहें हैं। गंगा सबकी समान रुप से मां है। इस पर्व में उनकी गहरी आस्था है। इधर गार्डेनरीच स्थित सूर्यनामघाट में हर वर्ष की तरह इस साल भी रिकार्डतोड तौर पर छठ व्रती उपस्थित रहें। व्रतियों, पुलिस व स्वंयसीवी संस्था के अनुसार यहां कमसे कम देढ़ लाख श्रद्धांलु आये। इस घाट पर सेवा कार्य में जुटी एक मात्र संस्था गार्डेनरीच सेवा समिति के अक्ष्यक्ष उत्तम साव ने बताया कि यहा छठ मईया काआशिर्वाद है कि कई दशक से इस घाट पर लाखों श्रद्धांलु का समागम होता है। लेकिन उक्त कार्य हमारे स्वंय सेवी क्रमियों से लेकर पुलिस, कोलकाता पोर्ट, सीईएससी केसहयोग के बिना सम्भव नहीं है। निगम व पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार इस साल भी बाबूघाट सहित तमाम गंगा घाटो पर सुरक्षा व सुविधा के मद्देनजर कोलकाता नगर निगम व पुलिस तैनात रहें। निगम की ओर से सभी घाटो पर साफ-सफाई व सुंदरीकरण के लिए लाइटिंग आदि की व्यवस्था की गई है तो दूसरी ओर हजारों की संख्या में अतिरिक्त पुलिस कर्मी भी तैनात रहें इसके बाद भी आतिशबाजी का दौर चलता रहा। राज्य सरकार ने साफ सफाई और सुरक्षा समेत नदी में सुरक्षित अर्घ्य की पुख्ता व्यवस्था को अंजाम दिया। प्रत्येक गंगा घाट पर पुलिस की रिवर पेट्रोलिंग टीम तैनात की गई है जो स्पीड बोट के जरिए नदी में गस्ती लगाते रहें ताकि किसी तरह की कोई अप्रिय घटना नहीं घटे। नगर निगम ने सभी गंगा घाटों की साफ-सफाई कराई है और घाटों पर रोशनी की पुख्ता व्यवस्था की गई है। साथ ही रेलवे ने भी बाबूघाट और अन्य गंगा घाटों से गुजरने वाली रेल सेवा को नियंत्रित की है । महानगर का दृश्य यह रहा कि महानगर की सड़को पर पुलिस पिकेटों से यातायात को सामान्य रखते हुए लोगो को एक किनारे से सुरक्षित निकलने की व्यवस्था भी कम पड़ती नजर आयी। खबरों के अनुसार गंगा के तरीबन 50 घाटो पर सुरक्षा व दिशा निर्देश संबंधी एनाउंसमेट का काम भी सुरक्षाकर्मियो के जिम्मे रहें। साथ ही घाटो के करीब वाच टावर लगाए गए है जहां से विशेष सुरक्षाकर्मी निगरानी की जा रही है। लोगो की सुरक्षा के मद्देनजर रेस्क्यू टीम, आपदाप्रबंधन की टीम के साथ-साथ रिवर पेट्रोलिंग व स्पीड बोट टीम समन्वय बनाकर काम करती रही। एचआरएफएस और पुलिस स्टेशन रिजर्वफोर्स की भी तैनाती की गई है। संभावित खतरे के मद्देनजर हाई-रेजूलेशन कैमरे के जरिए भी विशेष निगरानी होती रही जिसका सीधा प्रसारण लालबाजार कंट्रोल रूम में होता रहा।

। जगदीश यादव के साथ फिरोज, जाकिर रमेश जयदीप व लक्ष्मी की रिपोर्ट

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •