पीएम मोदी व साह फिर देश भर को चौका सकते हैं
राजधानी में आज से अमित साह की खास बैठक

जगदीश यादवJagdish Yadav
नई दिल्ली। देश की राजधानी वैसे भी हर रोज राजनीति की नई इबारत लिखती है। लेकिन इन दिनों भाजपा नई दिल्ली में राजनीति का एक नया अध्याय लिखने की तैयारी में जुटी है। साफ कहें तो राष्ट्रपति चुनाव में पीएम मोदी व अमित साह की जोड़ी के चाल से गच्चा खा चुकी है। शायद ही वजह है कि विपक्ष ने पहले ही उपराष्ट्रपति पद के लिए गोपालकृष्ण गांधी को उम्मीदवार बनाए जाने का ऐलान पहले ही कर दिया है। ऐसे में भला बीजेपी क्यो पीछे रहें, बीजेपी भी अपने उम्मीदवार का नाम तय करने में जुटी हुई है। सूत्र बताता हैं और कयास लगाये जा रहें है कि उपराष्ट्रपति पद के लिये नाम तय कर लिये गये हैं। लेकिन वह चेहरा कौन होगा सिर्फ कयास ही लगाये जा सकते हैं। इसी सिलसिले में बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने संघ के कई बड़े नेताओं के साथ बैठक की। माना जा रहा है कि इस बैठक में महात्मा गांधी के पोते गोपाल कृष्ण गांधी की टक्कर का नेता चुनने पर चर्चा की गई। modi shah
उपराषट्रपति चुनाव को लेकर हुई इस बैठक में संघ की ओर से भैय्याजी जोशी, कृष्ण गोपाल शामिल हुए। माना जा रहा है कि संघ चाहता है कि किसी आरएसएस पृष्ठभूमि वाले शख्स को ही उपराष्ट्रपति उम्मीदवार बनाया जाए। एनडीए के पास जीतने लायक वोट हैं और संघ इस मौके को भुनाना चाहता है। वहीं बीजेपी अपने उम्मीदवारों के नाम पर 2019 चुनावों के लिए राजनीतिक संदेश देना चाहती है. देखना दिलचस्प होगा कि किसका नाम निकलकर सामने आता है। उपराष्ट्रपति पद की रेस में सुषमा स्वराज, कलराज मिश्र, पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल और वेंकैया नायडू के नाम की चर्चा है। हालाकि कुछ भी स्पष्ट तौर पर नहीं कहा जा सकता क्योंकि बीजेपी ने राष्ट्रपति पद के लिए रामनाथ कोविंद को उम्मीदवार बनाकर सभी को हैरान कर दिया था।
उपराष्ट्रपति पद के लिए कलराज मिश्र और प्रकाश सिंह बादल के नाम पर संभावना अधिक है। इसके पीछे कुछ स्पष्ट वजहें हैं। उम्मीद की जा रही है कि 75 साल के कलराज मिश्र के लिए सक्रिय राजनीति से बाहर निकलने का एक बढ़िया मौका है। साथ ही राष्ट्रपति पद पर दलित उम्मीदवार उतारने के बाद उप राष्ट्रपति पद पर ब्राम्हण प्रत्याशी उतारकर संतुलन बनाने की कोशिश की जा सकती है. प्रकाश सिंह बादल की संभावना इसलिए अधिक है क्योंकि इससे एनडीए के सहयोगी दलों में विश्वास पैदा होगा।
बहरहाल उपराष्ट्रपति पद पर एनडीए किसका नाम पेश करेगी लेकिन कयास और सूत्रों के उपराष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के तौर पर बिहार से आने वाले भाजपा सांसद हुकुमदेव नारायण यादव के नाम से इंकार भी नहीं किया जा सकता है। हुमदेव नारायण यादव भारतीय जनता पार्टी के सदस्य तथा किसानों के पक्षधर नेता हैं। वे मधुबनी से लोकसभा सदस्य हैं। बताया जा रहाहै कि वह पीएम मोदी के पसंद के लोगोंमें एक हैं और राजनीति में एक इमानदार चेहरा भी हैं। ऐसे मे टीम एनडीए की ओर से इस चेहरे को सामने लाकर देश भर में पीएम नरेन्द्र मोदी व अमित साह की जोड़ी राजनीति का एक खास अध्याय लिख सकते हैं। शुक्रवार कोअमित साह दिल्ली में कुछ खास करने के लिये मौजूद होंगें। दिल्ली में दो दिनों का प्रवास के दौरान बीजेपी अध्यक्ष के देशभर में चल रहे प्रवास कार्यक्रम का एक हिस्सा है। अमित शाह दो दिनों तक दिल्ली में पार्टी के कामकाज की समीक्षा करेंगे। दिल्ली में 14 और 15 जुलाई को दिल्ली में बीजेपी के कार्यकर्ताओं को अमित शाह संगठन की मजबती का मंत्र भी देंगे। साथ ही एमसीडी चुनाव में मिली जीत के बाद दिल्ली में हुए कामकाज की रिपोर्ट भी उनको दी जाएगी।

Spread the love
  • 4
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    4
    Shares
  •  
    4
    Shares
  • 4
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •