एस. के नुरुद्दीन
हुगली/कोलकाता। जी हां, उसका सपना है ग्रीन इंडिया , क्लीन इंडिया। इसी सपने को साकार करने के तिरंगा लिये हुगली जिले के पोलवा के महानाद के निवासी युवा सुशांत कर भारत यात्रा पर साइकिल से निकले और अपनी 65 दिनों की इस यात्रा के उपरांत 6,878 किलो मीटर की यात्रा कर वापस आये तो उनका लोगों ने तहे दिल से स्वागत किया। लेकिन इसके बाद भी सुशांत को इस यात्रा से संतोष नहीं हुआ है क्यों कि वह देश का हर भाग की यात्रा नहीं कर सके है। सुशांत ने बताया कि ग्रीन इंडिया , क्लीन इंडिया इसी सपने को साकार करने के लिये वह दोबारा भारत यात्रा करना चाहते हैं लेकिन उनकी आर्थिक हालात ठीक नहीं है। कारण उपयुक्त स्तर पर आर्थिक मदद के बगैर उनकी यात्रा नही हो सकती है। अगर उपयुक्त मदद मिलती है तो वह फिर से उक्त ध्येय के तहत अपनी यात्रा फिर शुरु करेगें। उन्होंने बताया कि वह अबतक बंगाल, ओडिसा, तामिलनाडु, आन्ध्र प्रदेश, कर्नाटक, तेलेंगाना, गोवा आदि की यात्रा कर चुके हैं लेकिन अन्य राज्य की सम्पूर्ण यात्रा को वह अंजाम देना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि उन्हें सरकारी मदद की जरुरत है। इस यात्रा के दौरान तमाम जगहों पर उन्हें रहने के लिये भी परेशानी का सामना करना पड़ा। लेकिन ज्यादतर लोगों ने उनका साहस बढ़ाया तो ऐसे भी लोग थें जिन्होंने कहा कि क्या इस यात्रा से देश बदल सकता है। सुशांत ने कहा कि उनका यह साइकिलिंग का सफर का उद्देश्य सिर्फ अपने देश का नाम रौशन करना ग्रीन इंडिया व क्लीन इंडिया के अभियान को सफल कर लोगों में उक्त विषय के प्रति जागरुरता के प्रचार करना है। बता दें कि सुशांत कर बंगाल के हुगली जिले के एक गरीब परिवार से ताल्लुक रखते हैं। अगर उन्हें मदद मिले तो वह फिर से भारत यात्रा साइकिल द्वारा करेगें।

Spread the love
  • 38
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    38
    Shares
  •  
    38
    Shares
  • 38
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •