कई पार्टियों के नेता भी भाजपा का दामन थामने को तैयार 

जगदीश यादवjagdish kurta 

केंद्र की मोदी सरकार का काम बताने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह और व कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल पश्चिम बंगाल जाएंगे। ममता के गढ़ में इन्हें केंद्रीय नेतृत्व ने महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौंपी गई है। पार्टी अध्यक्ष अमित शाह हर उस कोशिश को अंजाम दे रहें है जिससे बंगाल में भाजपा के जनादेश रथ को पूरी रफ्तार मिल सके। भाजपा के उच्च पदस्थ सूत्रों के अनुसार पार्टी पश्चिम बंगाल में जनाधार बढ़ाना चाहती है। छत्तीसगढ़ी मूल के लोगों को प्रभावित करने के लिए दोनों को भेजा जा रहा है। जिस तरह से बंगाल के लोगों का  सीना ‘आमादेर सोनार बांग्ला’  को सुनकार गर्व से चौड़ा हो जाता है उसी तरह ‘छत्तीसगढ़िया सबले बढ़िया’ सुनते ही छत्तीसगढ़ के मूल निवासी फूले नहीं समाते हैं। ऐसे में अगर ‘ सबले बढ़िया’ का नारा बंगाल में भी सुनाई दें तो हैरत की बान नही होगी

पार्टी सूत्रों की माने तो पार्टी अध्यक्ष अमित शाह किसी हालात में इस राज्य में भाजपा के संगठन को शक्तिशाली कर सत्ता से वर्तमान सरकार को उखाड़ फेंकना चाहते हैं। जिसका एक प्रामाण भाजपा का लालबाजार अभियान से मिला। वैसे भाजपा ने धुव्रीकरण की राजनीति करने वाली पार्टी की अपनी छवि तोड़ कर मोदी के विकास कार्यों के प्रचार के साथ ही ममता बनर्जी सरकार के कथित भ्रष्टाचार और अल्पसंख्यकों के तुष्टिकरण की उनकी नीति को निशाना बनाने की रणनीति तैयार की है।उक्त मामले पर भाजपा इस राज्य में कितना सफल होगी यह तो समय आने पर पता चलेगा लेकिन भाजपा के लालाबाजार अभियान ने ही सत्ताधारियों की चिंता बढ़ा दी है। प्रदेश भाजपा के एक नेता मानते हैं कि तृणमूल के वोट बैंक में सेंध लगाए बिना यहां उसकाकल्प बनना मुश्किल है। यही वजह है कि अब खासकर ग्रामीण इलाकों में संगठन को मजबूत करने के लिए पार्टी संघ परिवार से जुड़े संगठनों का सहारा ले रही है। वहीं इस साल रामनवमी के मौके पर राज्य भर में दो सौ ज्यादा रैलियां कर संघ ने अपने इरादे जता दिए हैं। सूत्रों की माने तो कई पार्टियों के ऐसे तमाम नेता हैं जो भाजापा का दामन थामना चाहते हैं। उक्त  नेताओं को भाजपा सुरक्षा का भरोसा देती है तो फौरी तौर पर ही उक्त नेता अपने समर्थकों के साथ शामिल हो जायेंगे। खैर देखना है कि बंगाल में भाजपा का जनादेश का रथ किस रफ्तार से आगे बढेगा।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •