हुगली मोड़ में भिखारियों ने किया पथावरोध
रास्तों पर खुदरा पैसे फेंक बैठ गयें

जाकीर अली/ जेपी शर्मा

हुगली।999 जिले के हुगली मोड़ में तब अचानक ट्राफिक व्यवस्था ठप हो गई जब लोगों के द्वार द्वार जाकर भीख मांगने वाले लोग सड़क पर बैठ गये और खुदरा पैसों को सड़क पर बिखेर दिया। फिर क्या था इनके आन्दोंलन को देखने के लिये कम से काम पांच सौ लोग जमा हो गये। लोगों को यकीन ही नहीं हो रहा था कि भीख मांगने वालों का ऐसा रुप भी उन्हें देखने को मिलेगा। लगभग बीस मिनट तक पचास से ज्यादा भिखारियों की नारे बाजी और शोर गुल के बाद जब चुंचुड़ा थाने से एसआई बिश्वजीत पाल व उनकी सहकर्मी पियाली बिश्वास पुलिस कर्मियों के साथ घटना स्थल पर आये तो वह लोग आन्दोंलन का कारण जानकार दंग रह गये। कारण उन्होंने जीवन में ऐसा मामला नहीं देखा था। आन्दोंलनरत भिखारियों ने आरोप लगाते हुए बताया कि उन्हें लोगों द्वारा पचास पैसे से लेकर एक व दो रुपये के सिक्के दिये जाते है। जिससे वह लोग राशन आदी खरीदकर अपना व परिवार का पेट पालते हैं। लेकिन सिक्के के बंद होने की अफवाह के कारण जिले के तमाम जगहों व बाजारों में ज्यादतर दुकानदार ग्राहकों से एक सिक्का नहीं ले रहे हैं। एक व दो रुपये के सिक्के के कथित तौर पर ना चलने के कारण उनलोगों के पास पैसे के रुप में सिक्के तो हैं लेकिन कोई लेने वाला नहीं है। जिसके कारण उन लोगों को बाजार में कोई सामान नहीं दे रहा है। उनलोगों के सामने विकट समस्या है कि वह लोग क्या करें। भिखारियों ने कहा कि अगर सिक्के नहीं चल रहें हैं तो लोग भी उन्हें देना बंद कर रुपये ही दे। भिखारियों की बात सुनकर पुलिस वालों ने उन्हें अस्वासन दिया कि अब उनलोगों के साथ गलत नहीं होगा अगर कोई दुकानदार किसी से सिक्के नहीं लेता है तो लोग पुलिस थाने में आये तुरंत कार्रवाई होगी। पुलिस के समझाने के कारण लगभग एक घंटे के बाद भिखारियों ने इस धमकी के तहत अवरोध हटाया कि अगर दुकानदार सिक्के नहीं लेगें तो फिर आगे जमकर हंगामा होगा ।
पुलिस का कहना है कि सरकार ने एक रुपये के सिक्के को बंद करने का कोई आदेश नहीं दिया है। लग रहा है कि समाज में उथल पुथल मचाने के लिए कुछ लोग जानबूझकर इस अफवाह को बढ़ावा दे रहे हैं। उन्होने चेतावनी दी कि अगर किसी व्यक्ति द्वारा सिक्का नहीं लेने की शिकायत मिलती है तो उस व्यक्ति के खिलाफ मुकदमा दर्ज होगा।इधर भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा साफ शब्दों में कहा गया है कि एक, दो एवं पांच के सिक्के नहीं लेने वालों पर सीधी कार्रवाई किया जाए।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •