बंद समर्थकों ने रेल यातायात रोका
पुलिस ने बरसाईंं लाठियां
दर्जनों की हुई गिरफ्तारी
माकपा समर्थकों एवं पुलिस के बीच झड़प

कोलकाता।केंद्र सरकार की कथित “जनविरोधी” नीतियों के खिलाफ केंद्रीय मजदूर संघों द्वारा आहूत 48 घंटे की देशव्यापी हड़ताल के दौरान आज पश्चिम बंगाल के कुछ हिस्सों में उपद्रव की छिटपुट घटनाएं हुईं।उत्तर 24 परगना जिले में बारासात के चंपाडाली इलाके में एक स्कूल बस पर पथराव किया गया और हड़ताल समर्थकों ने एक सरकारी बस में भी तोड़फोड़ की। पश्चिम वर्द्धमान जिले के जमुरिया में प्रदर्शनकारियों ने एक बस में तोड़फोड़ की। राज्य के कुछ इलाकों में पुलिस और हड़ताल समर्थकों के बीच हाथापाई भी हुई। दक्षिण कोलकाता के जादवपुर इलाके में वरिष्ठ माकपा नेता सुजान चक्रवर्ती के साथ कई अन्य हड़ताल समर्थकों को पुलिस ने हिरासत में लिया। प्रदर्शनकारी ट्रेनों को रोकने के लिए कुछ स्थानों पर पटरियों पर बैठ गए और सड़कों पर टायर जलाए। माकपा सहित कई राजनीतिक दलों के नेता हड़ताल के समर्थन में सड़कों पर उतर आए। राज्य में तृणमूल कांग्रेस की सरकार ने हड़ताल का विरोध किया है। हड़ताल समर्थकों ने जगह-जगह सड़क व रेल यातायात बाधित कर दिया। इस दौरान पुलिस से झड़प भी हुई। स्थिति काबू में करने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज भी करना पड़ा। पुलिस ने कई बंद समर्थकों को गिरफ्तार किया है। दो दिवसीय देशव्यापी बंद के पहले दिन आज बंद समर्थकों ने सड़क व रेल यातायात अवरुद्ध कर दिया। हावड़ा, बर्दवान मेन शाखा के बैंची, मोगरा, हुगली, मानकुंडू, चंदननगर, चुंचुड़ा, श्रीरामपुर, रिसड़ा और कोन्नगर स्टेशनों पर बंद समर्थकों ने रेल मार्ग बाधित कर दिया। हावड़ा रुट के तारकेश्वर शाखा के सिंगुर स्टेशन पर भी बन्द समर्थकों ने रेल यातायात रोक दिया। इस दौरान चन्दननगर रलेवे स्टेशन पर बन्द समर्थकों ने कटिहार एक्सप्रेस पर पथराव भी किया। श्रीरामपुर में रेलवे पुलिस को बन्द समर्थकों पर लाठीचार्ज करना पड़ा। पुलिस ने यहां कई बन्द समर्थकों को हिरासत में ले लिया। दूसरी ओर बन्द को विफल करने के लिये सुबह से ही तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ता भी मैदान में उतरे हुए थे।सुबह कोन्नगर और उत्तरपाड़ा में तृणमूल कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ बन्द समर्थकों की झड़प हुई। आरोप है कि उत्तरपाड़ा में बन्द समर्थकों ने ट्रकों की चाभी निकाल ली और एक स्कूल बस का हवा भी निकाल दी। उधर सियालदह मेन शाखा के सोदपुर, टीटागढ़, कांचरापाड़ा, श्यामनगर, इच्छापुर में भी बन्द समर्थकों ने रेल मार्ग जाम कर दिया।इसके चलते लोकल ट्रेनों के साथ-साथ एक्सप्रेस ट्रेनों का परिचालन भी प्रभावित हुआ और यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा। सुबह छह बजे से लेकर तकरीबन 10 बजे तक यात्री परेशान रहे। इसके बाद धीरे-धीरे स्थिति सामान्य हुई। इसके अलावा बंद समर्थकों ने बर्दवान जिले के दुर्गापुर, जामुड़िया, मेदिनीपुर जिले के खड़गपुर सहित विभिन्न इलाकों में सड़क और रेल यातायात बाधित कर दिया। महानगर कोलकाता में भी बंद का असर देखने को मिला। बंद को विफल करने के लिए मंगलवार सुबह से ही श्यामबाजार, मौलाली, गरिया, धर्मतल्ला, यादवपुर सहित कोलकाता के महत्वपूर्ण स्थानों पर पुलिस गश्त करती रही। बंद के कारण रेल सेवा प्रभावित हुई लेकिन बसों का परिचालन सामान्य रहा। बंद के मद्देनजर बड़ी संख्या में सरकारी बसों को सड़क पर उतारा गया था। निजी बसें सड़क पर अन्य दिनों की तुलना में कम दिखी। उत्तरबंगाल के विभिन्न जिलों में आज बन्द का प्रभाव अपेक्षाकृत कम देखने को मिला। रानीगंज में माकपा समर्थकों द्वारा पथावरोध किया गया। इस प्रदर्शन में विधायक रुनू दत्त एवं पूर्व सांसद वंशगोपाल चौधरी समेत कई माकपा समर्थक शामिल हुए। इसी बीच पुलिस एवं माकपा समर्थकों के बीच झड़प हो गई। मंगलवार की सुबह समर्थकों ने रानीगंज स्थित नेताजी स्मारक के नजदीक 60 राजमार्ग पर पथावरोध किया। सूचना मिलते ही रानीगंज थाना पुलिस ने मौके पर पहुंचकर प्रदर्शनकारियों को हटाने की कोशिश की। इस बीच पुलिस के साथ माकपा समर्थकों की झड़प हो गई। जिसमें रुनू दत्त एवं पूर्व सांसद वंशगोपाल चौधरी घायल हो गए। पथावरोध के कारण रानीगंज से बांकुड़ा जाने वाली रूट की बसें रोक दी गई, जिसके कारण यात्रियों को तमाम परेशानियों का सामना करना पड़ा। उधर पुलिस ने तनाव को देखते हुए फोर्स तैनात कर दी है

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •