अगली में हुई थी 92 लोगों की मौत

कोलकाता। इस राज्य के भीषण अगलगी की घटनाओं में अन्यतम आमरी अग्निकांड की जांच रिपोर्ट आज विधानसभा में पेश की गई। न्यायमूर्ति तपन मुखर्जी की अध्यक्षता में गठित इस जांच कमेटी की 114 पन्नों की रिपोर्ट राज्य सरकार की ओर से विधानसभा में पेश की गई। विधानसभा में न्यायमूर्ति तपन मुखर्जी की अध्यक्षता में गठित इस जांच कमेटी की 114 पन्नों की रिपोर्ट राज्य सरकार की ओर से विधानसभा में पेश की गई। रिपोर्ट में लिखा गया है कि 2011 के दिसंबर महीने की रात लगी इस आग में 92 लोगों की मौत हो गई थी। मामले की जांच के लिए गठित कोलकाता पुलिस की खुफिया विभाग की विशेष जांच टीम ने इस मामले में 2015 में 16 लोगों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की है, जिनमें से 12 लोग अस्पताल प्रबंधन कमेटी के सदस्य हैं। मामले की सुनवाई अभी भी अलीपुर तृतीय अतिरिक्त जिला न्यायाधीश की अदालत में चल रही है। कमीशन की रिपोर्ट में साफ लिखा गया है कि अस्पताल में अग्निशमन व्यवस्था में लापरवाही बरतने के कारण ही आग लगी थी एवं इन लोगों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की सिफारिश जांच टीम ने की है। इसमें इस बात का उल्लेख किया गया है कि अग्निकांड में मारे गए लोगों के परिवारों को राज्य सरकार की ओर से तीन लाख रुपये की आर्थिक मदद दी गई है। 11 दिसंबर 2011 की रात अस्पताल में लगी आग में जलकर 92 लोगों की मौत हो गई थी।घटना के तुरंत बाद मुख्यमंत्री अस्पताल पहुंची थीं एवं अस्पताल को तुरंत ही बंद करने का निर्देश दिया था। 15 दिसंबर, 2011 को घटना की जांच के लिए न्यायाधीश तपन मुखर्जी की अध्यक्षता में यह कमेटी तैयार की गई थी, जिसकी रिपोर्ट विधानसभा में पेश की गई।

Spread the love
  • 3
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    3
    Shares
  •  
    3
    Shares
  • 3
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •