संतोष कुमार मां काली की पूजा कर मिले वोंटरों से
भाजपा के लिये परेशानी का सबब बनी हिंदू महासभा

फिरोज आलम
कोलकाता। इस राज्य में लोकसभा चुनाव के लिये राजनीतिक पार्टियों के बीच सियासत का संग्राम घमासान मोड़ पर है। सत्तारुढ़ तृणमूल को जहां यहां भाजपा चुनौती दे रही है तो वही अखिल भारतीय हिंदू महासभा भाजपा के लिये परेशानी का सबब बन गई है। जी हां, इस चुनावी मैदान में पहली बार इस राज्य से अखिल भारतीय हिंदू महासभा के लगभग दस प्रार्थी चुनावी मैदान में ताल ठोक कर खड़े हैं। डायमण्ड हार्बर से अखिल भारतीय हिंदू महासभा के प्रार्थी संतोष कुमार आज मीडिया के लिये खास खबर बने हुए हैं। कारण संतोष कुमार ने भाजपा का दामन छोड़कर महासभा का दामन थाम लिया है। आज वह मां काली की पूजा कर अपने क्षेत्र में चुनाव प्रचार करते दिखे। मीडिया कर्मियों के साथ बातचीत में संतोष कुमार का गुस्सा तृणमूल के प्रार्थी अभिषेक बनर्जी से ज्यादा भाजपा के खिलाफ फूटा। संतोष ने कहा कि इस राज्य में पूरी तरह से प्रदेश भाजपा ने उन पार्टी कर्मियों व नेताओं को दरकिनार कर दिया है जो पार्टी के लिये हर वक्त व लम्बे समय से काम कर रहे थें व मार खा रहे थे। राज्य में भाजपा ने तमाम जगहों पर ऐसे प्रार्थी खड़े किये जो तृणमूल, कांग्रेस सहित माकपा से आये थे। डायमण्ड हार्बर में भी ऐसा हुआ और मुकुल के स्नेहपात्र एक ऐसे व्यक्ति को मैदान में उतारा गया जो सात माह पहले पार्टी में आया व कांग्रेसी था। जाहिर है कि पार्टी में कलह व असंतोष तो रहेगा ही। संतोष कुमार ने कहा कि वह भी चाहते हैं कि नरेन्द्र मोदी ही पीएम बने। इस राज्य में इस एक साजिश के तहत भाजपा को कुछ कथित भाजपाईयों के द्वारा अदृश्य बाधा पहुंचाया जा रहा है। हैरत है कि प्रदेश भाजपा क्यो अंजान है। एक ओर भाजपा का डंके की चोट पर ममता बनर्जी बिरोध कर रही है तो दूसरी ओर दादा मुकुल के क्रियाकलाप के कारण पार्टी का नुकसान हो रहा है। देश में लोग भाजपा के राष्ट्रवादी विचारा धारा से प्रभावित थें लेकिन इस राज्य में इस विचार धारा को ताक पर रख दिया गया तो हिंदू महासभा से मैदान में उतराना पड़ा। बंगाल में भाजपा प्रार्थियों के पीछे मुकुल का स्टाम्प है। लोग क्यों वोट देगें। कौन इनलोगों के पास खड़ा रहेगा। राज्य में भाजपा बदल गई। 1945 में श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने बंगाल में हिंदू महासभा को लेकर लड़ाई शुरु की थी आज मै उनके पथ का अनुकरण कर रहा हूं।

Spread the love
  • 87
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    87
    Shares
  •  
    87
    Shares
  • 87
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •