कहा, रुक गया राज्य का सार्विक विकास

कोलकाता। राज्य का सार्विक विकास जहां रुक गया है वहीं सबसे बड़ा चिंता का विषय है कि समाज को गढ़ने वाले शिक्षकों का भविष्य भी इस राज्य में अंधकार में है। उक्त बात आज डायमण्ड हार्बर से माकपा के प्रार्थी डा. फुहाद हालिम ने मीडिया कर्मियों के साथ बातचीत में कही। उन्होंने कहा कि राज्य में सबसे बड़ी समसे बड़ी समस्या बेरोजगारी है और आज भी राज्य में 80 हजार शिक्षक का पद खाली है। ऐसे में इस राज्य के नौनिहालों के सामने पठन पाठन की एक बड़ी समस्या है। तमाम सरकारी स्कूल शिक्षकों के अभाव के कारण बच्चों को समग्र व उचित शिक्षा व्यवस्था से दूर होना पड़ रहा है। माकपा के प्रार्थी डा. फुहाद हालिम ने आरोप लगाते हुए कहा कि आज देखा जाये तो केन्द्र की भाजपा व राज्य की तृणमूल सरकार के बीच हाई वोल्टेज ड्रामा चल रहा है। दोनों एक दुसरे के चट्टे बट्टे है। दिखाने के लिये पीएम मोदी व ममता के बीच वाक् युद्ध चल रहा है। यही कारण है कि हमारा नारा ही नही बरन उद्देश्य है कि देश व राज्य से भाजपा व तृणमूल हटाओ। डा. हालिम ने कहा कि अब नई पीढ़ि का झुकाव व्यापक तेजी से वामपंथ की ओर हो रहा है और इसका परिणाम भी हमलोग देख रहे है। अगर बात डायमण्ड हार्बर की करे तो यहां का समग्र विकास जैसे थम गया है। जब तक शमिक लहड़ी सांसद थे उक्त दिशा में सकरात्मक कार्य हुए लेकिन यहां गंगा एक्शन प्लान का कार्य ठप पड़ गया। वाम जमाने में नैशनल हाईवे की योजना को बल मिला लेकिन अब यह योजना जैसे दम तोड़ रही है। यहां फ्लाईओवर ब्रीज का काम ठप पड़ा है। इस जगह के लोग मछली व्यवसाय व रेडीमेड कपड़ा व्यवसाय से जुड़े हैं ऐसे में जीएसटी व नोटबंदी की मार से अभीतक उक्त लोग उबर नही सके है। अगर राज्य के वितमंत्री अमित मित्रा उक्त दौरान अपनी एक विशेष नीति व योजना के तहत कार्य करते तो सबकों यहां राहत मिल सकता था। मेक इन इंडिया से डायमंम्ड हार्बर अछूता ही है। यहां तो पहले भी कल कारखाने बंद हो रहे थें अब तो प्राय नहीं के कगार पर है लेकिन राज्य सरकार के रुख को देखकर लगता है कि सरकार इसके प्रति उदासिन ही है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •