सट्टा बाजार की सरगर्मी शुरु

जगदीश यादव

कोलकाता। इस देश में सट्टा बाजार की जड़े इतनी गहरी हो चुकी है कि फिल्म, क्रिकेट जगत सहित दिग्गज नेताओं के क्रियाकलापों पर भी सट्टा लग जाता है। साफ कहे तो लोकसभा का चुनाव सामने है और देश भर में सट्टा बाजार अभी से ही गर्म हो गया है। अभी चुनाव का एक भी चरण संपन्न नहीं हुआ और तमाम दावे व सूत्र की माने तो देश भर में अब तक इस 12 हज़ार करोड़ का सट्टा लग चुका है। मिली जानकारी को माने तो यह सट्टा बाजार 2 लाख करोड़ तक जा सकता है। सट्टा बाजार की जानकारी रखने वालो का अनुमान है कि केवल बंगाल में ही लोकसभा चुनाव को लेकर एक हजार करोड़ का सट्टा लग सकता है। अब तो सट्टा के लिये ऐप भी बनाये जा रहें है जिसका कनेक्शन विदेश में होता है। जानकारों की माने तो राजस्थान के जोधपुर की तरह महानगर कोलकाता सट्टा बाजार पर लगभग तीस सालों से सट्टा खेलने वालों का भरोसा बना हुआ है। शायद यही कारण है कि आज भी लोग सट्टा बाजार के अनुमानों पर भरोसा करते हैं। महानगर के सट्टा बाजार के एक जानकार के अनुसार इस बार सट्टा बाजार लगाने वालों की सबसे अधिक रूचि भाजपा की सीट दो अंकों में पहुंचने को लेकर है। इसके लिये सट्टा बाजार के बादशाह तमाम स्तर पर राजनीतिक स्थिति के सटीक पूर्वानुमान को समझने में रात दिन जहां सिर खपा रहें हैं वहीं जानकारी हासिल करने के लिये पानी की तरह पैसा बहा रहे हैं। सट्टा बाज़ार सूत्रों की माने तो इस लोकसभा चुनाव में कोई भी एक पार्टी अपने दम पर सरकार नहीं बनाएगी। यानी केन्द्र हो या फिर राज्य चुनाव कांटे की टक्कर की होने की बात कही जा रही है। लेकिन जरायम पेशादारों का यह भी मानना है कि कुछ भी हो लेकिन अकेले भाजपा की सीटों की संख्या सबसे ज्यादा होगी। कांग्रेस तमाम जगहों पर भाजपा से पीछे रह सकती है। लेकिन यह भी कहा जा रहा है कि अकेले भाजपा की सरकार नही बनने वाली है। सटोरियों के मुताबिक इस बार भी गठबंधन के सहयोग से बीजेपी सरकार बना सकती है। ऐसे में पीएम के चेहरा को लेकर भाजपा के साथ आने वाले सहयोगी अड़ंगा डाल सकते हैं। फिलहाल सट्टा बाजार में सिर्फ भाजपा और कांग्रेस के साथ सत्ता पर काबीज क्षेत्रिया दल पर ही दांव लग रहे है। सट्टाबाजार में बीजेपी काफ़ी आगे है। सट्टाबाजार में बीजेपी को बढ़त है लेकिन अकेले बहुमत से बीजेपी दूर लग रही है। सट्टाबाजार देश भर में भाजपा को 234 से 240 सीट दे रहा है। इस दौरान 23 पैसे का भाव है और 250 सीट पर 1 रुपये और 255 सीट पर 1.40 पैसे का भाव है। कांग्रेस का 60 सीट पर 28 पैसे का भाव है, और 65 सीट पर 67 पैसे भाव और 75 सीट पर कांग्रेस का 1 रुपये का भाव है। सटोरियों ने इस बार पुलिस और जांच ऐजेसियों से बचने के लिए मोबाइल ऐप तैयार किया है जिसका सर्वर विदोशो में होगा। पहले की तरह मोबाइल बेबसाइट इत्यादि को दरकिनार कर हर कानून से बचने के लिए ऐप का सहारा लिया जा रहा है। कहते है कि 1975 में लगी इमरजेंसी से हुए राजनीतिक परिवर्तनों पर भी सट्टा लगा था। तब से सट्टा बाजार एक ऐसे बाजार में बदल गया जिससे अरबों कमाना लेने में कई दशक नही लगते है। वैसे सट्टेबाज़ी क़ानूनी जुर्म है लेकिन सट्टेबाज़ों का मानना है कि उनका पूरा धंधा ईमानदारी पर होता है। उनके अनुसार इस खेल में ज़ुबान की क़ीमत होती है और इसमें कोई लिखा पढ़ी भी नहीं होती। बहरहाल क्या होगा यह तो हम नहीं जानते है। लोकतंत्र में आखरी बात जनता ही तय करती है लेकिन सट्टा बाजार में उफान उठ गया है और बंगाल हो या अन्य राज्य जरायम पेशे का यह बाजार आकूत दौलत समेटने की तैयारी में है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •