कोलकाता। अपनी मां को जिन्दा जलाकर मारने की कोशिश करने के आरोपी एक बेटे को पुलिस ने गिरप्तार किया है। घटना दक्षिण 24 परगना जिले के जयनगर नगरपालिका के 13 नंबर वार्ड इलाके में कयालपाड़ा की है। उक्त इलाके के निवासी एक बेटे और बहू पर अपने मां को जलाकर मारने की कोशिश करने का आरोप लगा है। इस बाबत पीड़ित मां ने शुक्रवार को जयनगर थाने में लिखित शिकायत दर्ज करवायी है। बताया जा रहा है कि अनीता गाईन कयालपाड़ा में रहती हैं। वे कोलकाता में परिचारिका का काम करती हैं। उनके पति सड़क पर फेरी का काम करते हैं। उनका एक ही बेटा है संजय गाईन जो एक निजी डायग्नोस्टिक सेंटर में काम करता है। पिछले 7 वर्ष पहले संजय ने इलाके की अनामिका गाईन से प्रेम विवाह किया था। दोनों की 6 वर्ष की बेटी भी है। आरोप है कि विवाह के कुछ दिन बाद से ही संजय और उसकी पत्नी अनामिका अनीता को संपत्ति के लिए परेशान करने लगे। अनीता और उसके पति कि राजी ना होने पर संजय और उसकी पत्नी ने उनके ऊपर तरह तरह के शारीरिक शारीरिक और मानसिक अत्याचार करने शुरू कर दिये। कुछ दिन तक यह अत्याचार चला। उसके बाद पीड़ित वृद्ध दंपति ने मामले की जानकारी इलाके के पार्षद को दी। इलाके के पार्षद ने उन्हें आपस में बैठकर मसले को सुलझा लेने की सलाह दी।लेकिन मामला बढ़ता ही चला गया। स्थिति ये आ गई कि अपने बेटे और बहू के अत्याचार से तंग आकर वृद्ध पीड़ित दंपत्ति को सुभाष ग्राम इलाके में भाड़े पर घर लेकर रहना पड़ा। हाल ही में वे लोग पुनः अपने घर लौटे थे। लेकिन उसके बाद भी उनके ऊपर उनके बेटे और बहू का अत्याचार काम नहीं हुआ।आरोप है कि शुक्रवार की शाम जब अनीता के पति काम पर गए थे तो उसके बेटे और बहू ने संपत्ति को लेकर फिर अनीता से झगड़ा शुरु किया। अनीता ने जब अपनी संपत्ति को उनके नाम करने से इनकार किया तो उनके ऊपर उनके बेटे और बहू ने किरासन तेल उड़ेल दिया। किसी भी तरह चीखती-चिल्लाती अनीता अपनी जान बचाकर घर से बाहर निकली। स्थानीय लोगों की मदद से अनीता की जान बची।इसके बाद अनीता ने जयनगर थाने में जाकर अपने बेटे संजय मंडल और उसकी पत्नी अनामिका मंडल के खिलाफ लिखित शिकायत दर्ज की। पीड़िता की शिकायत के आधार पर आरोपी संजय को गिरफ्तार कर लिया गया है। फोटो-पुशन चक्रवर्ती

Spread the love
  • 8
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    8
    Shares
  •  
    8
    Shares
  • 8
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •