सीएम ममता बनर्जी ने दी शुभकामनाएं
राज्य सचिवालय से लेकर कालीघाट तक पुख्ता सुरक्षा व्यवस्था
पुलिस के साथ ही बम निरोधक दस्ता व डॉग स्क्वॉड तैनात
समय के साथ ही बढ़ता रहा भीड़ का रेला

जगदीश यादव/ फिरोज/रमेश/सुब्रतो/जयदीप/ श्रेयश्री
कोलकाता। जहां पूरे देश भर में नवरात्रा की धूम है वहीं इस राज्य में दुर्गा पूजा की धूम है। आज यानी महाषष्ठी के दिन दोपहर बीतते ही महानगर की सड़कों पर दर्शनार्थियों का सैलाब उमड़ पड़ा। जैसे जैसे समय का पहिया खिसकता रहा जन आस्था का महा सैलाब दुर्गा पूजा मण्डपों में उमड़ता रहा। भीड़ को सम्भालने में पुलिस व स्वंयसेवियों को काफी मशक्कत करनी पड़ रही थी। राज्य के हर कोने से आये दुर्गा पूजा दर्शनार्थी एक एक मिनट के समय को यूं जाया नहीं होने देना चाहते थे और उन्होंने रात भर पूजा घूमने और मौजमस्ती के मजे लिये और उत्सव को जमकर जिया। इस दिन दोपहर से ही कालेज स्क्वायर, मोहम्मद अली पार्क, संतोष मित्र स्क्वायर, सुरुचि संघ, श्रीभूमि, बदामतला, अहिरीटोला,नलिन सरकार स्ट्रीट, हाथी बागान, दर्पनारायण टैगोर, कुमारटोली, भवानीपुर के कई पूजा पंडालों में हजारों की संख्या में दर्शनार्थी पंडाल भ्रमण के लिए पहुंच गए थे। पूजा आयोजकों की ओर से बताया गया है कि रात बढ़ने का साथ ही भीड़ का रेला बढ़ रहा था। पुलिस ही नहीं दुर्गा पूजा आयोजक और स्वंयसेवी भी भीड़ को नियंत्रित करने में हलकान रहें। महानगर वे संलग्न नामचीन दुर्गा पूजा मंडपों में दर्शनार्थियों की लम्बी लाइन लगी रही। बड़े पैमाने पर लोग उमड़ने लगे हैं। इस बारे में कोलकाता पुलिस के अनुसार महानगर की सड़कों पर लगभग 10 हजार अतिरिक्त पुलिस व सम्बधित सुरक्षा कर्मियों को तैनात किया गया। इधर राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने महाषष्ठी के अवसर राज्यवासियों को शुभकामनाएं प्रेषित की हैं। इस बारे में उन्होंने सोशल साइट पर मां दुर्गा की तस्वीर साझा करते हुए लिखा कि, ”आज महाषष्ठी है। इस मौके पर मैं राज्यवासियों को सुख, समृद्धि और शांति की शुभकामनाएं देती हूं।’ दुसरी ओर दुर्गोत्सव के अवसर पर सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए गए हैं। खुफिया और राज्य पुलिस के जवानों को तो लगाया ही गया है। इसके साथ ही कोलकाता पुलिस के डॉग स्क्वॉड को विशेष ड्यूटी पर तैनात किया गया था । पुलिस ने आज बताया कि कोलकाता पुलिस डॉग स्क्वॉड में मौजूद विशेष तौर पर प्रशिक्षित 30 कुत्तों को राज्य सचिवालय, मुख्यमंत्री आवास, काली घाट से लेकर भवानीपुर, श्याम बाजार, गिरीश पार्क, जादवपुर सियालदह आदि क्षेत्रों के विस्तृत इलाके में बड़े-बड़े पंडालों में तैनात किया गया। पुलिस की टीम इन्हें लेकर इन जगहों पर जाती है और इनकी मदद से संदिग्ध विस्फोटक अथवा किसी भी तरह की संदिग्ध चीज के बारे में जांच-पड़ताल की जाती है। सुबह 8:00 से लेकर रात 9:00 बजे तक तीन बार डॉग स्क्वॉड की टीम महानगर कोलकाता के विभिन्न पूजा पंडालों का मुआयना करती है। उसके बाद रात 11:00 से सुबह 4:00 बजे के बीच एक बार और पूजा पंडालों का जायजा लिया जाता है, ताकि इस दौर में कोई अप्रिय घटना को टाला जा सके। कोलकाता पुलिस की ओर से बताया गया है कि सुरक्षा में लगाए गए विशेष तौर पर प्रशिक्षित 30 कुत्ते विस्फोटक का पता लगाने में कुशल हैं। वैसे बता दें कि पूजा मुख्यत: षष्ठी और उसके बाद चार दिन -सप्तमी, अष्टमी, नवमी और दशमी- पांच दिनों का उत्सव होता है, जिस दौरान लोग नए कपड़े पहनकर पूजा पंडालों का दर्शन करते हैं। दोस्तों, परिजनों से मिलते हैं और पारंपरिक पकवान बनाते हैं।’तिथि’ के अनुसार, कई पूजा समुदायों में रविवार शाम से ही ‘षष्ठी’ की पूजा शुरू हो गई।जबकि समुदायिक पूजा पंडालों और घरों में इस दौरान कालपरमवो(पूजा की शुरुआत), बोधन(मां दुर्गा की मूर्ति का अधिष्ठापन), आमंत्रण(देवी का आमंत्रण), अधिवास(पूजा होने वाली जगह पर देवी का पवित्रीकरण) किया जाता है।

Spread the love
  • 3
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    3
    Shares
  •  
    3
    Shares
  • 3
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •