किया हसन-हुसैन की कुर्बानी को याद

फिरोज आलम/जाकीर अली

कोलकाता। रह रह का बारिश के बीच भी आज महानगर सहित राज्य भर में मातम के साथ मुहर्रम मनाया गया।इस मौके पर मुस्लिम सम्प्रदाय के लोगों ने इमाम हुसैन की शहादत की याद में मातम मनाया। महानगर के मटियाबुर्ज, जकिरया स्ट्रीट, रिपन स्ट्रीट, राजाबाजार, पार्क सर्कस और खिदिरपुर बहुल इलाकों से मुहर्रम के अखाडे़ निकाले गये । इस मौके पर लोगों ने गाजा-बाजा व ताजिया के साथ जुलूस निकाला तथा हसन-हुसैन की कुर्बानी को याद किया। खिलाड़ियों ने लाठी, भाला आदि से खेल व करतब दिखाया। हावड़ा सहित हुगली जिले में भी इस दौरान मातम के साथ मुहर्रम मनाया गया। मध्य कोलकाता आज जुलूस के कारण वाहन रेंगते दिखें तो वहीं सड़कों पर निकाले गये अखाड़े में शामिल लोग हाय हसन-हाय हुसैन की आवाज लगाकर मातम मनाते रहें। अखाड़ों में शामिल काफी लोग काले पोशाक धारण किये हुए थे। डंके की गड़गड़ाहट और मजहबी झंडे तथा ताजिये के साथ मुहर्रम का जुलूस महानगर के विभिन्न भागों में देखा गया। सेंट्रल एवेन्यु, मौलाली, कसिया बगान, खिदिरपुर और पार्क सर्कस मोड़ पर देर शाम तक मुहर्रम का अखाड़ा जमा रहा। उल्लेखनीय है कि इस्लामिक कैलेंडर के पहले माह मुहर्रम की 10वीं तारीख को इमाम हुसैन कर्बाला के मौदान में अपने साथियों व परिवार के लोगों के साथ शहीद हो गये लेकिन दुश्म यजीद के सामने नहीं झूके। यजीद के लोगों ने साजिश कर इमाम हुसैन के बड़े भाई इमाम हसन को पहले ही जहर देकर मौत के मुंह में ढकेल दिया था। इमाम हुसैन यजीद के साथ जंग के लिए तैयार हुए और अंत में 10वीं मुहर्रम को शहीद हो गये। तभी से हर साल मुहर्रम का महीना शुरू होने पर मुसलमान इमाम हुसैन की शहादत की याद में इबादत करते हैं।

Spread the love
  • 2
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    2
    Shares
  •  
    2
    Shares
  • 2
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •