स्वास्थ्य राज्य मंत्री चंद्रिमा भट्टाचार्य ने किया फर्क पडने से इंकार
जगदीश यादव 
कोलकाता। बड़ाबाजार के कैनिंग स्ट्रीट स्थित बागड़ी मार्केट में भीषण आग से जहां करोड़ों की संपत्ति के नुकसान की आशंका जताई जा रही है। वही बताया जा रहा है कि आग जिस पांच मंजिला इमारत में आग लगी है उक्त  इमारत में करीब चार सौ के दुकानों में 170 के लगभग दवा की दुकानें है। फिलहाल आग पर काबू पाने के लिए दमकल की 35 गाड़ियां लगातार प्रयासरत है। लेकिन इस अगलगी की घटना से महानगर में दवा वितरण व्यवस्था पर असर पड़ने की सम्भावना से मेडिकल से जूड़े लोग इंकार नहीं कर रहें हैं। महानगर के तमाम डाक्टरों व दवा बेचने वालें केमिस्टों की माने तो इस आग का असर राज्य सहित महानगर के मरीजों पर पड़ सकता है।

डा. रमेश रजक

मामले पर डा. रमेश रजक ने कहा कि मेहता विल्डिंग महानगर ही नहीं राज्य भर में दवा व्यवसाय के लिये जाना जाता है। अगलगी की घटना से दवाओं की आपूर्ति पर असर पड़ सकता है। कुछ लोग इस अवसर का नाजायज फायदा भी उठा सकते हैं।

डा. केपी राव

ने कहा कि अगलगी खी घटना बेहद दुखद है लेकिन जिस जगह आग लगी है वह महानगर में दवा व्यवसाय का प्रमुख केन्द्र कहा जा सकता है। इसमे संदेह नहीं है कि महानगर में कुछ दिन तक दवा की खपत पर असर पड़ सकता है। कारण तमाम डाक्टरों के चेम्बर भी उक्त मार्केट पर दवा के लिये काफी हद तक निर्भर रहते हैं।

डा. सुभाष वर्णवाल

वहीं डा. सुभाष वर्णवाल ने कहा कि उक्त घटना से दवाओं की खपत पर असर पड़ सकता है। लेकिन सरकार को यह भी ध्यान रखना होगा कि उक्त स्थिति का कोई गलत फायदा नहीं उठा सके। मामले पर बात करने के लिये तृणमूल के विधायक व वेस्ट बंगाल मेडिकल कांउसिल के अध्यक्ष डा. निर्मल मांझी से कई बार सम्पर्क की कोशिश की गयी लेकिन वह फोन पर भी उपलब्ध नही हो सके। वहीं स्वास्थ्य व परिवार  कल्याण राज्य मंत्री चंद्रिमा भट्टाचार्य ने मामले पर बात करने पर कहा कि हमारी नजर है और आपको बता दें कि महानगर में इस अगलगी की घटना से दवाओं की आपूर्ति पर फर्क नहीं पड़ेगा।

Spread the love
  • 3
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    3
    Shares
  •  
    3
    Shares
  • 3
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •