रंगीन प्रकाश सज्जा में नहाया कपिल मुनि मंदिर
जल-थल मार्ग में सुरक्षा की पुख्ता व्यवस्था
जय कपिल मुनि के उद्घोष से गूंज रहा है सगरद्वीप
मेले में दिखने लगा है अर्ध कुम्भ मेले का असर

जगदीश यादव/ फिरोज/ रमेश/जाकीर अली
गंगासागर। मोक्ष नगरी गंगासागर में मकर संक्रांति के पुण्य स्नान 14 व 15 जनवरी को होगा। लेकिन गंगासागर में जन आस्था का जन आस्था का सैलाब धीरे धीरे उमड़ने लगा है। समय के साथ ही तीर्थ यात्रियों का रेला कचुबेरिया के रास्ते से होकर उमड़ रहा है। जहां देखों वहां ही तीर्थयात्रियों का जत्था भक्तिभवना के साथ सगरद्वीप की पवित्र धरती पर कदम रखकर अपने आप को निहाल समझ रहे हैं। वहीं कपिलमुनि मंदिर रंगीन प्रकाश सज्जा में जगमग कर रहा है। तमाम नगा ‍साधु समाज के लोगों का एक अलग संसार भी यहां बस गया है। मामले पर आज गंगा सागर मेला अधिकारी स्तर के सूत्रों ने नाम की गोपनियता की शर्त पर दावा करते हुए कि इस साल संगम में मकर संक्रांती के अवसर पर कम से कम 30 लाख पुण्यार्थी पुण्य स्नान करेंगे। उन्होंने गंगा सागर मेला पर सरकार की पीठ थपथपाते हुए कहा कि हर तरह की व्यवस्था की गई है। उन्होंने कहा कि उनके अनुमान के अनुसार आजतक लगभग दो लाख लोग सागरद्वीप में आ चुके हैं। उन्होंने कहा कि बजरंग परिषद के द्वारा यहां आये लापता लोगों को रखने और फिर उन्हें उनके परिजनों से मिलवाने का काम किया जा रहा है तो पांच लाख तरल पदार्थ के पाउच पु्ण्यार्थियों के हाथ दोने के लिये बितरण किये गये हैं. पेयजल के पाउच पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है। वहीं पुलिस सूत्रों ने कहा कि मेले में सुरक्षा व्यवस्था चाक चौबंद है और पाकेटमारों से लेकर तमाम स्तर के आवांछित तत्वों पर नजर रखी जा रही है। मेले से कईयों को गिरफ्तार किया गया है। कुल मिलाकर मेला अधिकारियों व प्रशासनिक सूत्रों ने एक बार फिर जिला प्रशासन सह राज्य सरकार की व्यवस्था को बेहतर बताते हुए कहा कि मेले में सुरछा व्यवस्था हो या फिर निरमल स्नान पुण्य स्नान के तहत साफ सफाई से लेकर तमाम व्यवस्था दुरुस्त है। यह भी कहा जा रहा है कि पुण्यार्थियों की संख्या में बढ़ोत्तरी होगी। लेकिन स्थानीय दुकानदारों व स्थानीय लोगों ने दावा कि या है अर्ध्य कुम्भ के कारण इस साल गंगा सागर की पावन धरती पर पुण्यर्थियों की संख्या अन्य वर्षों की उपेक्षा कम दोखा जा रहा है।मेला क्षेत्र के विभिन्न चौराहों, रेलवे स्टेशनों तथा लॉट संख्या-8, कचूबेडिय़ा, नामखाना, काकद्वीप में पुलिस सहायता केंद्र, अस्थायी चिकित्सा शिविर की व्यवस्था की गई है। पुण्यार्थियों से अधिक किराया ना वसूला जाए, इसके लिए प्रशासन ने विभिन्न स्थानों से लांच और बस किराए का ब्यौरा भी जारी किया है। ताकि पुण्यार्थियों को किसी तरह की परेशानी का सामना न करना पड़े। मेला क्षेत्र में दूर संचार की उत्तम व्यवस्था के लिए बीएसएनएल समेत अन्य मोबाइल ऑपरेटिंग कम्पनियों को सतर्क किया गया है। चोर उच्चकों के लिये विशेष व्यवस्था से निपटा जा रहा है। इस बार सागर मेले में 30 एसपी, 89 डीएसपी, 214 इंस्पेक्टर, 633 एसआई व एएसआई रैंक के पदाधिकारी नियुक्त होंगें। जबिक 3240 सिपाही, 2000 होमगार्ड व एक हजार सिविक वालिटीयर कर्मी सुरक्षा व्यवस्था के लिये तैनात है। जबकि कोलकाता से लेकर सागरद्वीप तक कुल 700 सीसीटीवी कैमरे, 20 ड्रोन,20 हिलेलिएम गुब्बारे से मेले पर निगाह रखी जाएगी। वहीं मेगा कंट्रोलरुम से मेले के चप्पा चप्पा से निगाह होगी। हेमरेडियो कर्मियों की भी सहायता ली जा रही है। डीएम राव ने बताया कि गंगासागर मेला स्थल में साफ सफाई बढ़ाने के लिए इस बार करीब 10 हजार शौचालय बनाए गये है। ड्रोन व हेलिकप्टरों से मेले पर निगाह रखा जा रहा है। सीसीटीवी कैमरे लगाये गये हैं और जल से लकेर थल मार्ग पर भी सुरक्षा की पुख्ता व्यवस्था है।वाच टावरों से तमाम मेले पर निगाह रखी जा रही है। इस मौके पर यहां लगने वाले गंगासागर मेले में हर बार की तरह विविध तरह के साधु-सन्यासी पहुंच चुके हैं। रंग-बिरंगे खिलौने और तरह-तरह के सामान से अटी दुकानों की कतार सज गई है। तीर्थयात्रियों की सेवा में विभिन्न स्वयंसेवी संस्थाएं जुट गई हैं।

Spread the love
  • 7
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    7
    Shares
  •  
    7
    Shares
  • 7
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •