अजय गुप्ता

कोलकाता ।देश भर में दीपावली के लिये बाजारों में रौनक है।  मंगलवार से पटाखा बाजार आम लोगों के लिये खोल दिए गए। इस वर्ष शहीद मीनार मैदान, टाला पार्क, जादवपुर सहित बेहला और कालिकापुर में पटाखों के बाजार लगाए गए हैं। इन पांच बाजारों में कुल 200 स्टॉल लगे हैं जबकि शहीद मीनार मैदान के बाजार में कुल 52 स्टॉल लगाए गए हैं।ऐसे में पहले दिन से ही पटाखा बाजारों में खरीदारों की भीड़ उमड़ने लगी है।गौरतलब है कि सोमवार को कोलकाता के पुलिस आयुक्त राजीव कुमार ने शहीद मीनार मैदान का निरीक्षण किया था। उनके साथ दमकल, सीइएससी, सुरक्षा विभाग व केएमडीए के अधिकारी भी मौजूद थे। निरीक्षण के बाद डीसी (सेंट्रल) अखिलेश चतुर्वेदी ने बताया कि 25-30अक्टूबर तक पटाखों के बाजार चलेंगे। साथ ही उन्होंने बताया कि 16 सितम्बर से अब तक अधिक ध्वनि के करीब 3000 पटाखे जब्त किए गए औ़र चार लोगों को गिरफ्तार भी किया गया।

ऑल बंगाल क्रैकर्स डेवलपमेंट कमिटी के चेयरमैन ने बताया कि कैनिंग स्ट्रीट, ओल्ड चायना बाजार, तारातला व हावडा- इन चार जगहों पर विशेष निगरानी रखी जा रही है क्योंकि इन स्थानों से ही चीन निर्मित पटाखों के आने की संभावना रहती है। शहीद मीनार पटाखा बाजार में सुरक्षा के मद्देनजर 20 सीसीटीवी कैमरे लगाये गए हैं।विदेशी पटाखे रखना और बेचना अवैध है।बता दें कि  विदेश व्यापार महानिदेशालय द्वारा भारत में पटाखों के आयात को प्रतिबंधित वस्तुओं की सूची में रखा है जिसके अनुसार देश में ऐसे किसी भी विस्फोटक के निर्माण, भंडारण, इस्तेमाल और बिक्री पर प्रतिबंध है जिसमें सल्फर या इससे मिश्रित किसी क्लोरेट के साथ किया हो। पेट्रोलियम एवं विस्फोटक सुरक्षा संगठन की ओर से विस्फोटक नियम 2008 के अंतर्गत पटाखों के आयात के लिए कोई लाइसेंस नहीं दिया गया है। इसलिए इन पटाखों का भारत में भंडारण एवं विक्रय अवैध तथा दंडनीय है। विदेशी पटाखों बेचने वालों के खिलाफ कार्रवाई के लिए नपा के पास जरूरी अधिकार नहीं है। कलेक्टर द्वारा प्रतिबंध लगाने पर ही ऐसे विक्रेताओं के खिलाफ सख्त कार्रवाई हो सकती है। विदेश निर्मित पटाखों की बिक्री,उनका भंडारण और परिवहन करने वालों पर विस्फोटक अधिनियम की धारा-127 व 128 के तहत कार्रवाई होती है। सुप्रीम कोर्ट के निर्देशानुसार भी उनका पालन करना अनिवार्य होता है। विदेशों से आयातित पटाखे गैर-कानूनी तरीके से लाए जाते हैं और भारतीय नियम-कानून के मानक अनुसार नहीं होते हैं।

 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •