अगलगी के पीड़ितों ने लगाई सरकार से मदद की गुहार

कोलकाता। यह बताने की जरुरत शायद ही है कि इस राज्य में  दुर्गा पूजा कि उत्साह के साथ  मनाया जाता है। लेकिन बागड़ी मार्केट में लगी भयानक आग ने  यहां व्यवसायियों की सांस ही रोक दी हो। ऐसे में करोड़ों रुपये के नुकसान के कारण यहां के व्यवसायी जहां सन्न है वही अगलगी के पीड़ितों ने राज्य सरकार से मदद की गुहार की है। 71 नंबर कैनिंग‌ स्ट्रीट‌ की पांच मंजिली इमारत में लगी आग से करोड़ों का सामान जलकर नष्ट हो गया है। कारोबारियों का कहना है कि दुर्गा पूजा के समय बिक्री के लिए यहां भारी संख्या में तमाम तरह के सामानों को मौजूद किया गया था जो जलकर नष्ट हो गया। मार्केट में कपड़ा का दुकान करने वाले एक कारोबारी ने बताया कि दुर्गा पूजा के समय भारी बिक्री होती है, इसके लिए साल भर पहले से ही कपड़े खरीदकर गोदाम में जमा किए जाते हैं। वह सारे कपड़े जलकर खाक हो गए हैं। तीसरी मंजिल पर भी कपड़े की दुकान करने वाले कारोबारी ने बताया कि कम से कम तीन करोड़ रुपये का सामान खरीदकर दुकान में रखा गया था जो आग में पूरी तरह से जलकर खाक हो गया है। वहां करीब सात करोड़ का दवा खरीदकर रखने वाले एक अन्य कारोबारी ने बताया कि चौथी मंजिल पर उनका दवा का गोदाम है और आग में पूरी गोदाम जलकर खाक हो गई है। इसी तरह से जिस इमारत में आग लगी है उसके आसपास की इमारतों के कारोबारी भी चिंतित हो गए हैं। आग लगने की घटना के बाद वैसे तो दमकल और पुलिस ने आसपास के सभी क्षेत्रों को बंद‌ कर दिया है लेकिन अगर थोड़ी-सी भी जगह बची है तो आसपास की इमारत में मौजूद दुकानदार अपने-अपने गोदाम से सामान निकालकर दूसरी जगह स्थानांतरित करने लगे हैं। इन कारोबारियों का आरोप है कि रात 2:00 बजे जब आग लगी उसके बाद तुरंत दमकल और पुलिस को सूचना दी गई लेकिन करीब आधे घंटे देरी‌ से दमकल की गाड़ी मौके पर पहुंची। हालांकि पुलिस का दावा है कि 2:35 पर सूचना मिली एवं तुरंत ही पुलिस और दमकल की टीम घटनास्थल पर पहुंच गई। स्थानीय लोगों का कहना है कि पांच मंजिला इमारत में लगी आग को रात 2:30 बजे से ही बुझाया जा रहा है लेकिन यह कम होने के बजाय और बढ़ती जा रही है। एक प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि इमारत के अंदर से कई बार विस्फोट की आवाज आ रही है। इससे अंदाजा लगाया जा रहा है उसके अंदर कुछ अन्य ऐसे सामान है जो आग में फट जा रहे हैं। इस वजह से संभवतः दमकल कर्मियों को आग बुझाने में परेशानी होती जा रही है। जो भी हो इस अग्निकांड में कारोबारियों के माथे पर बल दिया है। त पांच मंजिली इमारत में लगी भीषण आग में करोड़ों रुपये मूल्य का सामान नष्ट हो गया। जिन लोगों की दुकान व गोदाम मौजूद है वे सारे घटनास्थल के आसपास मौजूद हैं। उनके माथे पर बल पड़ा है। कोई दो करोड़ तो कोई पांच करोड़, कोई सात करोड़ तो कोई आठ करोड़ के नुकसान का दावा कर रहा है। पूजा से पहले इस भीषण अग्निकांड के शिकार हुए कारोबारियों ने राज्य सरकार से मदद की गुहार लगाई है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से अपील करते हुए कारोबारियों का कहना है कि सरकार अगर आर्थिक क्षतिपूर्ति नहीं देगी तो उन्हें काफी नुकसान उठाना पड़ेगा। मौके पर मौजूद एक कारोबारी ने बताया कि उनका कम से कम सात करोड रुपये का सामान जलकर खाक हो गया है। इसी तरह से उस इमारत में कमोबेश 50 से अधिक गोदाम थी जिसमें सैकड़ों करोड़ रुपये के सामान रखे गए थे। सारे के सारे सामान जलकर खाक हो गए हैं। इतनी बड़ी धनराशि का नुकसान होने के बाद कारोबारियों को उम्मीद है कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी उन्हें निश्चित तौर पर आर्थिक मदद देने की घोषणा करेंगी।
Spread the love
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    1
    Share
  •  
    1
    Share
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •