पुरुलिया में तृणमूल कांग्रेस कर्मी की हत्या

कोलकाता/हावड़ा/पुरुलिया। पश्चिम बंगाल में चुनाव के नतीजे घोषित होते ही एक बार फिर हिंसा की खबरें आने लगी हैं। बसीरहाट, हावड़ा, दमदम उत्तर, नानूर, पूर्व मेदिनीपुर, बैरकपुर, जादवपुर,जयनगर सह पूरे राज्य में हिंसा की घटनाएं घटी है। दीदी के शपथग्रहण समारोह से पहले ही एक पुरुलिया के बघमुंडी में तृणमूल कार्यकर्ता को कथित तौर पर कांग्रेस समर्थकों ने मौत के घाट उतार दिया।  वहीं हावड़ा में सीपीआईएम के दफ्तरों में भी तोड़फोड़ की गई है। बाघमुंडी में तृणमूल कार्यकर्ता लक्षमण प्रमाणिक को कथित तौर पर कांग्रेस समर्थकों नें धारदार हथियारों से हत्या की है। मामले पर कांग्रेस के नव निर्विचत प्रार्थी नेपाल महतो ने कहा है कि मामले में कांग्रेस के किसी कर्मी का हाथ होगा तो वह कठोर कार्रवाई करेगें। घटना में दो अन्य टीएमसी कार्यकर्ताओं के भी हमले में घायल होने की खबर है। गुरुवार देर रात बाघमुंडी विधानसभा सीट से कांग्रेस के जीतने पर पार्टी कार्यकर्ता पटाखे जलाकर जश्न मना रहे थे। इस सीट से टीएमसी कार्यकर्ता लक्षमण पारिक भी खड़े थे। कुछ देर बाद कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने लक्षमण पारिक पर नुकीले हथियार से हमला किया जिसमें पारिक गंभीर रूप से घायल हो गए। उन्हें पास के अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने पारिक को मृत घोषित कर दिया। वहीं हावड़ा में माकपा के दो दफ्तरों में तोड़फोड़ की गई है। यह तोड़फोड़ कथित तौर पर तृणमूल कार्यकर्ताओं ने की है। माकपा कार्यकर्ताओं ने बम फेंके जाने का भी आरोप लगाया है। घटना के बाद पुलिस को तैनात कर दिया गया है।

जबकि कामदुनी कांड से चर्चा में प्रतिवादी चेहरे मौसमी कयाल-टुम्पा कयाल के उत्तर चौबीस परगना के घर भी तृणमूल के लोगों के द्वारा तोड़फोड़ की घटना का आरोप है। इसी तरह से पूर्व मेदिनीपुर के मयना में भाकपा व आरएसपी के कार्यालयों में तोड़फोड़ व पार्टी के लोगों पर हमले के आरोप भी तृणमूल के लोगों पर लग रहा है। हलांकि तृणमूल ने घटना में हाथ होने से इंकार किया है। जबकि इधर काशीपुर-बेलगाछिया में माकपा कार्यालय में तोड़फोड़ की घटना घटी है। आरोप है कि घटना को तृणमूल के द्वारा जाम दिया गया है। टाला थाने में शिकायत दर्ज की गई है।

इसी तरह से आरोप है कि जादवपुर में माकपा के प्रार्थी के जीत पर पंचसायर इलाका रणक्षेत्र में बदल गया । यहां माकपा के कार्यालय में तोड़पोड़ की घटना घटी। पुलिस के हस्ताक्षेप करने पर पुलिस पर ही पथराव किया गया। घटना में दोनों पक्षों के कई लोग घायल हुए हैं।

अगर बात दमदम उत्तर की करें तो उक्त केन्द्र से तृणमूल प्रार्थी के हार के बाद माकपा के एक नेताके घर में भी तोढ़फोड़ की घटना घटी है।  वहीं दक्षिण चौबीस परगना के जयनगर के शहजादापुर में एसयूसीआई के लोगों पर तृणमूल कर्मी एएम मोल्ला के घर में शुक्रवार की सुबह को आगजनी करने का आरोप है। आरोप है कि 40 वर्ष के बाद एसयूसीआई के हाथ से उक्त केन्द्र के जाने से एसयूसीआई समर्थकों ने अपना आपा खो दिया। हुगली जिले में भी चुनावी हिंसा की घटना घटी है।

 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •