इस जापानी बुखार की शिकार एक महिला की मौत

कोलकाता। अगस्त 2017 में उत्तरप्रदेश के गोरखपुर में 70 से अधिक बच्चों की मौत ने दुनिया भर का ध्यान आकर्षित किया है। यह बुखार देश भर में दहशत का एक नाम बन चुका है। वहीं अब जापानी बुखार इंसेफेलाइटिस ने अपने पैर महानगर कोलकाता में पसार दिये हैं।  राजधानी कोलकाता में इस बुखार के संक्रमण से एक महिला की मौत हो गई है। उसकी पहचान स्वप्ना पाल (50) के रूप में हुई है। वह पिकनिक गार्डन की रहने वाली थी।पारिवारिक सूत्रों के हवाले से बताया गया है कि पिछले सोमवार से वह बुखार से पीड़ित थी। पहले तो स्थानीय चिकित्सकों से दवा लेकर उसे संभालने की कोशिश की लेकिन लगातार बिगड़ती तबीयत को देखते हुए शुक्रवार को उसे नेशनल मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती करा दिया गया था। जहां रविवार को उसने दम तोड़ दिया। सोमवार को राज्य स्वास्थ्य विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने इसकी पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि स्वप्ना के मृत्यु प्रमाणपत्र में अस्पताल की ओर से इंसेफेलाइटिस बुखार का उल्लेख किया गया है। इस नए बुखार के कोलकाता में दस्तक देने के बाद निगम और स्वास्थ्य अधिकारियों के माथे पर बल पड़ गया है।स्वास्थ्य विभाग के एक अन्य वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इस साल राज्य के विभिन्न हिस्सों से डेंगू की खबरें आने के बावजूद इंसेफेलाइटिस के बारे में कोई चर्चा नहीं थी किंतु स्वप्ना की मौत के बाद राज्य स्वास्थ्य विभाग ने इससे मुकाबले के लिए नए सिरे से तैयारियां शुरू की है।ज्ञात हो कि राज्य में डेंगू से अब तक पांच लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 80 से अधिक लोग इसकी चपेट में हैं। राजधानी कोलकाता के डेंगू संक्रमण के लिए इलाज में सक्षम एकलौते बेलियाघाटा आईडी अस्पताल में 30 लोगों को भर्ती किया गया है। जिन्हें अलग कमरे में रखकर चिकित्सा की जा रही है। इस बीच राजधानी में इंसेफेलाइटिस की दस्तक ने कोलकाता वासियों को डर में डाल दिया है।डॉक्टरों के अनुसार इंसेफेलाइटिस का सबसे ज्यादा असर एक से पंद्रह साल के बच्चों पर पड़ता है. अगर शुरुआती दिनों में ही बच्चे का इलाज शुरू हो जाता है, तब उसके बचने की संभावना ज्यादा होती है. देर होने पर बच्चे की मौत हो जाती है. यही नहीं, अगर कोई बच्चा गंभीर हालात के बाद भी बच जाता है, तो वह या तो मानसिक तौर पर कमजोर हो जाता है या फिर शारीरिक तौर पर विकलांगता का शिकार हो जाता है.
Spread the love
  • 2
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    2
    Shares
  •  
    2
    Shares
  • 2
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •