रोहिंग्या पर किया ममता बनर्जी को सतर्क

कोलकाता। रोहिंग्या मामले पर पश्चिम बंगाल सरकार को केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने सतर्क रहने को कहा है। सिंह ने कहा कि सरकार पड़ोसी देशों से सटे देश की सीमावर्ती क्षेत्रों की सुरक्षा को लेकर गंभीर है। आज की बैठक सफल और फलदायी रही। सभी राज्य सरकारें सहयोग पर सहमत हैं। केंद्र सरकार की ओर से इनको भरपूर सहयोग मिलता रहेगा। केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने गुरुवार को कोलकाता में पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी सहित बांग्लादेश की सीमा से सटे पांच राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक के बाद यह जानकारी दी। इन राज्यों में पश्चिम बंगाल, असम, मेघालय, मिजोरम एवं त्रिपुरा के मंत्री और अधिकारी शामिल हुए। बैठक में रोहिंग्या मुसलमानों, बांग्लादेशियों की घुसपैठ एवं सीमापार से अवैध व्यापार जैसे गंभीर मसलों पर बातचीत हुई। बैठक में रोहिंग्या घुसपैठ, नकली नोट सहित सीमावर्ती क्षेत्रों की विभिन्न समस्याओं पर भी चर्चा की गयी। केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने सीमापार बांग्लादेश में आतंकी ग्रुपों की सक्रियता को लेकर चिंता जतायी।  उन्होंने बताया कि इस संदर्भ में बांग्लादेश सरकार से बातचीत की गयी है। बैठक में राज्य की सीएम ममता बनर्जी भी मौजूद रहीं।
बैठकठक में इन राज्यों के गृहमंत्री, सीमा सुरक्षा बल व विभिन्न सुरक्षा एजेंसियों के वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे। गौरतलब है कि इससे पहले केंद्रीय गृहमंत्री ने पाकिस्तान, चीन एवं म्यांमार की सीमा से सटे राज्यों के अधिकारियों के साथ भी बैठक की थी। श्री सिंह ने रोहिंग्या मुसलमानों, बांग्लादेशियों की घुसपैठ एवं सीमापार से अवैध व्यापार जैसे गंभीर मसलों पर बातचीत की। सिंह ने कहा कि सरकार पड़ोसी देशों से सटे देश की सीमावर्ती क्षेत्रों की सुरक्षा को लेकर गंभीर है। आज की बैठक सफल और फलदायी रही. सभी राज्य सरकारें सहयोग पर सहमत हैं।  केंद्र सरकार की ओर से इनको भरपूर सहयोग मिलता रहेगा।
भारत-बांग्लादेश सीमा 4096 किलो मीटर के दायरे में है जिसमें पश्चिम बंगाल में 2,217 किलोमीटर, असम में 262 किलोमीटर, मेघालय में 443 किलोमीटर, त्रिपुरा में 856 किलोमीटर और मिजोरम में 180 किलोमीटर तक विस्तृत क्षेत्र में फैला है। अंतरराष्ट्रीय सीमा से जुड़े राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ केंद्रीय गृहमंत्री की यह चौथी बैठक थी।
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •