पार्टी के ओबीसी मोर्चा के स्थापना दिवस पर प्रदेश अध्यक्ष की ‘सबक का डोज’

कोलकाता। पार्टी कर्मी हो या फिर नेता पार्टी के हर कार्य को अग्नि परीक्षा मानकर काम करें। नेता कथित समर्थकों को पद देने से बचें व करीब के नहीं बरन काम के लोगों को पार्टी में पद व जिम्मेवारी दिया जाये। उक्त बात को दरकिनार करने वाले ज्यादा दिन तक संगठन में नहीं ठहर सकते हैं। उक्त बात आज प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने कही। वह इस दिन भाजपा ओबीसी मोर्चा के दूसरे स्थापना दिवस के अवसर पर मोर्चा के कर्मी व नेताओं के सामने बोल रहें थें। दिलीप घोष ने आज एक शिक्षक की तरह मौजूद मोर्चा के नेताओं की एक तरह से क्लास लेते हुए कई नेताओं को उनके नाम लिये बिना ही सबक का डोज देते हुए चेताया कि वक्त है सम्भल जाये। दिलीप घोष ने कहा कि कोई भी जन्म से सिखकर नहीं आता नेता पार्टी कर्मीयों पर भरोसा कर उन्हें काम दें और फिर तब किसी के बारे में अपनी राय शुमारी करें। बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि पार्टी में हर एक को मौका मिलना चाहिए। उन्होंने कहा जहां तक तृणमूल की बात है तो राज्य से इसकी बिदाई तय है। अभीतक के चुनाव परिणाम से साफ पता चलता है कि यहां भाजपा दूसरे स्थान पर है और यह छोटी बात नहीं है। दिलीप घोष ने कहा कि प्रदेश में भाजपा के बढ़ते जनाधार का ही ताकत है कि अब ममता हो या अभिषेक और सूर्यकांत जैसे नेता बीजेपी से दहशत में हैं।कारण सबकों पता है कि भाजपा के सत्ता में आते ही चोरी, ठगी व काले कारनामे बंद हो जाएगा। दिलीप घोष ने हार्दिक पटेल पर भी व्यंग कसते हुए कहा कि अगर इनमे दम था तो गुजरात का चुनाव जित लेते। उक्त कार्यक्रम में भाजपा के केन्द्रीय नेता राहुल सिन्हा ने भी जमकर सत्तादारी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि सत्ताधारी सरकार के जाने का समय हो गया है। जहां तक ओबीसी की बात है तो राज्य में आने वाले समय में ओबीसी ही तय करेगी कि यहां का मुख्यमंत्री कौन होगा। उक्त अवसर पर प्रदेश भाजपा ओबीसी मोर्चा के अध्यक्ष स्वपन पाल, उपाध्यक्ष अर्चना पाल, अचिनत्य हलदर, नवीनचंद्र घोष,शंकर चौधरी, प्रभात महतो, सत्यजीत गुप्ता, इंद्रजीत मलिक, अरबिन्द गुप्ता आदी ने अपनी बात कही।
Spread the love
  • 7
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    7
    Shares
  •  
    7
    Shares
  • 7
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •