सीएम ममता ने शहीद के परिजनों को दिया मदद का अश्वासन

कोलकाता। कश्मीर के पुलवामा में गुरुवार को जैश-ए-मोहम्मद के आत्मघाती हमले में इस राज्य के दो जवान शहीद हुए हैं। शहीद हुए सीआरपीएफ के 49 जवानों में दो पश्चिम बंगाल के थे। इनमें से एक जवान का शव तो मिल गया था लेकिन, दूसरे का शव अभी तक नहीं मिला है। आशंका जताई जा रही है कि दूसरे जवान का शव पूरी तरह क्षत-विक्षत हो गया है। हालांकि, उनके अवशेषों को ढूंढने की कोशिश की जा रही है। बंगाल के दो शहीदों में एक बबलू सांतरा सीआरपीएफ की 35 बटालियन के हेड कांस्टेबल थे। इनका शव तो मिल गया है और शनिवार तक हावड़ा जिले के बाउड़िया में स्थित उनके पैतृक आवास तक पहुंचा दिया जाएगा। दूसरे शहीद जवान का नाम सुदीप विश्वास है जो 95 बटालियन के कांस्टेबल थे। वे नादिया जिले में तेहट्ट पुलिस थाना क्षेत्र के हंसपुकुर के मूल निवासी थे। सीआरपीएफ के मुताबिक आज दोपहर तक शहीद सुदीप का शव नहीं मिल सका है। हमले के बाद हुए भीषण विस्फोट में संभवतः दूसरे जवान का शव पूरी तरह से क्षत-विक्षत हो गया है। हालांकि, उनके अवशेषों को ढूंढने की कोशिश की जा रही है। जबकि जम्मू कश्मीर के पुलवामा में गुरुवार को सीआरपीएफ जवानों पर हुए आतंकी हमले में 49 जवान शहीद हो गए। शहीद जवानों में बंगाल के हावड़ा के बाउड़िया चककाशी के रहने वाले बबलू सांतरा भी शामिल हैं। बबलू सीआरपीएफ के 35वीं बटालियन में तैनात थे। उनकी उम्र 37 साल थी और छह महीने में रिटायर होने वाले थे। उसके पहले ही देश के लिए शहीद हो गए. करीब 20 साल पहले वह सीआरपीएफ में भर्ती हुए थे। कश्मीर में उनकी पोस्टिंग की शुरुआत हुई थी और कश्मीर में ही उनकी शहादत भी हुई है। इधर जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में आतंकी हमले में शहीद हुए हावड़ा के जवान बबलू सांतरा के परिजनों को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सांत्वना दी है। उन्होंने शहीद जवान के पिता और मां से आज बात की और हर तरह की मदद का आश्वासन दिया। मुख्यमंत्री ने शहीद के परिजनों को आश्वस्त किया है कि राज्य सरकार उन्हें हर तरह की सहायता करेगी। इधर, शहीद जवान के हावड़ा के बाउड़िया चककाशी स्थित आवास पर राज्य के मंत्री अरुप राय और उलूबेरिया दक्षिण से विधायक पुलक रॉय भी पहुंचे। उन्होंने शहीद जवान के मां-बाप और अन्य परिजनों से मुलाकात की। मंत्री ने उन्हें हर तरह की मदद का आश्वासन दिया।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •