जमकर चली ईंट, बोतल, पुलिस की बैरिकेटिंग टूटी
भगवा खेमा व तृणमूलियों के बीच झड़प
कई वाहनों में जमकर आगजनी व कालेज में तोड़फोड
पुलिस के साथ भिडंत के बाद चली लाठी
कालेज में विद्यासागर की मूर्ति तोड़ने का आरोप

जगदीश यादव
कोलकाता। आगामी 19 मई को लोकसभा चुनावों के अंतिम चरण के मतदान से पहले भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने आज अपनी पार्टी के उम्मीदवारों के समर्थन में कोलकाता में रोड शो किया। रोड शो शाम 4:30 बजे मध्य कोलकाता के एस्प्लेनेड इलाके से शुरू हुआ और उत्तरी कोलकाता में स्वामी विवेकानंद भवन पर जाकर खत्म तो हो गया। इस दौरान अमित शाह ने कहा है कि ममता बनर्जी हार से नहीं बच सकती हैं। वहीं अमित शाह के रोड शो के दौरान जमकर हंगामा हुआ और जिस ट्रक पर शाह सवार थे उस पर डंडे फेंके गए। शाह के वाहन में डंडे पेंके जाने पर वहां मौजूद भाजपा के लोग भड़क गये और पुलिस के साथ उनकी धक्का मुक्की व मारपीट तक हुई। भीड़ को नियंत्रित करने के लिये पुलिस ने लाठीचार्ज किया। ऐसे में भाजपा समर्थक व कर्मी भड़क गये और उनका गुस्सा फुटा।अमित शाह के रोड शो के दौरान कोलकाता विश्वविद्यालय के छात्रों और बीजेपी कार्यकर्ताओं में झड़प हो गई।उस झड़प में कुछ पत्रकारों को भी चोट आई है। इधर भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो को लेकर कॉलेज स्ट्रीट स्थित कलकत्ता विश्वविद्यालय के मुख्य द्वार के पास ‘अमित शाह गो बैक’ का नारा लगा रहे तृणमूल छात्र परिषद और भाजपा के समर्थक आपस में भिड़ गये। दोनों पक्षों ने एक दूसरे पर जमकर ईट, बोतल फेंके. भाजपा समर्थकों ने पुलिस के बैरिकेटिंग और पिकेट तोड़ दिया और सुरक्षाकर्मियों की कुर्सियां तोड़ दी और मूल कैंपस में घुसने की कोशिश की। लेकिन पुलिस ने उन्हें मूल कैंपस में प्रवेश करने से रोक दिया और मूल गेट को बंद कर दिया. भाजपा समर्थकों को हटाने के लिए पुलिस ने हल्का लाठीचार्ज कर उन्हें तितर बितर करने की कोशिश की। इस दौरान तोड़फोड़ करने वालों ने एक बड़े वाहन व तीन मोटर साइकिल सहित कुल चार वाहनों को आग के हवाले कर दिया। टीएमसीपी ने आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा के गुण्डों ने विधानसरणी स्थित विद्यासागर कालेज में केवल तोड़फोड़ ही नही किया बरन ईश्वर चंद्र विद्यासागर की प्रतिमा को बी तोड़ दिया गया। कांच के बाक्स में स्थापित विद्यासागर की मूर्ति का सिर गायब बताया जा रहा है। खबर के लिखे जाने तक राज्य के शिक्षामंत्री प्रार्थ चटर्जी विद्यासागर की स्थिति की जानकारी लेने पहुंचे। वहीं भाजपा का आरोप है कि अमित शाह जिस वाहन पर सवार थे, उस पर डंडे फेंके गए। इसके बाद पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा। इसके बाद उनका रोड शो खत्म हो गया। इस दौरान अमित शाह ने कहा, 23 तारीख को बंगाल में 23 से ज्यादा सीटें भाजपा जीतने जा रही है। बंगाल और देश की जनता मोदीजी को प्रधानमंत्री देखना चाहती है। मेरी ममताजी को सलाह है कि गुस्सा बढ़ाने से बीपी बढ़ जाता है और ऐसा करना इस उम्र में ठीक नहीं है। इसे बंद कर दें। कहीं पर भी हमने विपक्ष के साथ ऐसा व्यवहार नहीं किया। उल्लेखनीय है भाजपा अध्यक्ष श्री शाह को रोड शो धर्मतल्ला के मेट्रो क्रोसिंग से शुरू हुई थी तथा कॉलेज स्ट्रीट से गुजरना था। कॉलेज स्ट्रीट स्थित कलकत्ता विश्वविद्यालय के मूल कैंपस में तृणमूल कांग्रेस छात्र परिषद के सदस्य दोपहर से ही धरना दे रहे थे। उनके हाथों में काला झंडा था और वे ‘अमित शाह गो बैक’ के नारे लगा रहे थे, लेकिन जब श्री शाह का रोड शो गुजरने लगा, तो दोनों पक्ष उत्तेजित हो गये और परस्पर एक दूसरे के खिलाफ नारेबाजी करने लगे और एक दूसरे से आपस में भिड़ गये. जिस समय दोनों पक्ष के समर्थक आपस में भिड़ रहे थे. ठीक उसी समय भाजपा अध्यक्ष की गाड़ी गुजर रही थी. इसके विरोध में भाजपा और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद समर्थकों ने जमकर ‘जय श्री राम’ ‘अमित शाह जिंदाबाद’ और ‘नरेंद्र मोदी जिंदाबाद’ के नारे लगाये.दोनों पक्षों को नियंत्रित करने के लिए पुलिस को कड़ी मेहनत करनी पड़ी. छात्रों का कहना था कि अमित शाह ने बंगाल को कंगाल बोल कर बंगाल का अपमान किया है तथा वे लोग बंगाल में किसी भी कीमत पर सांप्रदायिक शक्ति को बर्दाश्त नहीं करेंगे. इसी कारण वे लोग अमित शाह के खिलाफ ‘गो बैक’ के नारे लगा रहे हैं. दूसरी ओर, इसके खिलाफ अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद और भाजपा के समर्थकों ने भी जमकर नारेबाजी की और जय श्री राम, अमित शाह जिंदाबाद और नरेंद्र मोदी जिंदाबाद के नारे लगाये.इधर मामले पर बात करने पर फोन पर अमित शाह ने बताया कि वह सुरक्षित हैं लेकिन बंगाल में आज तृणमूल के गुण्डों ने लोकतंत्र का गला जरुर घोट दिया है। अमित शाह ने कहा कि मुझे स्वामी विवेकानंद की प्रतिमा पर माला भी नही चढ़ाने दिया गया जिसका उन्हें भारी दुख है। अमित शाह ने फोन पर कहा कि रोड शो के दौरान दो जगहों पर हमला किया गया। अमित शाह ने कहा कि वह बंगाल की जनता से अपिल कर रहें हैं कि वह लोग स्थिति को देखे व पीएम मोदी को द्यान में रखते हुए भारी मतों से बंगाल में भाजपा के उम्मीदवारों को जिताकर राज्य में लोकतंत्र को फिर से बहाल करे। बता दे कि अमित शाह की होने वाले रैली के कुछ घंटे पहले महानगर के उत्तर कोलकाता अंचल से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित भाजपा नेताओं के बैनर व फ्लेक्स सड़क के किनारे हटाए जाने के बाद यहां विवाद पैदा हो गया था।इस घटना के दौरान दोनों पक्षों के कई लोग गायल हो गये है। वहीं भाजपा कर्मियों ने संदेह व्यक्त किया कि अब पुलिस रात में दीदी के गुण्डों की तरह काम करेगी और रात में पुलिस निरिह लोगों की भी धर पकड़ करेगी । भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने इसे बंगाल में लोकतंत्र की हत्या करार दिया। भाजपा का आरोप है कि सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग भाजपा के खिलाफ किया जा रहा है।भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने ट्वीट कर कहा कि ‘ये नागावार हरकत ठीक नहीं… भाजपा अध्यक्ष अमित शाह जी की कोलकाता रैली को फेल करने के लिए ममता सरकार कोई कसर नहीं छोड़ रही। स्वागत मंच नहीं लगाने दिए गए और सड़क के दोनों और लगाए गुब्बारे और होर्डिंग भी टीएमसी ने निकाल दिए। यह राजनीतिक वैमनस्यता बहुत भारी पड़ेगी दीदी!’

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •